मुख्यमंत्री की सीख के बाद भी नहीं सुधर रहे ठेकेदार टाइप नेता, गलतियां सुधारने की बजाए अब डराने धमकाने में जुटे

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने मंडी संसदीय क्षेत्र के उपचुनाव में मिली हार को भाजपा कार्यकर्ताओं का अतिउत्साह बताया और माना कि इतनी नजदीकी हार से मन आहत होता है, खासकर तब जब क्षेत्र में विकास की बयार वह रही हो। मुख्यमंत्री ने इस हार को 2022 का अलर्ट बताते हुए कार्यकर्ताओं को एकजुट होकर सबको साथ लेकर चलने की हिदायत भी दी है।

पंडोह में सराज भाजपा के कार्यकर्ताओं की समीक्षा बैठक में मुख्यमंत्री ने सबको आडे़ हाथ लिया और गंभीरता से काम करने की सलाह दी, साथ ही ठेकेदार टाइप नेताओं को चेताया कि उनके कार्यों का मूल्यांकन भी होगा। समीक्षा बैठक के भाजपा के निष्ठावान कार्यकर्ता मिशन 2022 के लिए जुट गए हैं लेकिन ठेकेदार टाइप नेताओं की हेकड़ी नहीं उतर रही है। यह वही लोग हैं जो मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के प्रयासों पर पानी फेर रहे हैं और दोष दूसरों के सिर मढ़नें में माहिर है।

एक पोलिंग बूथ पर ठेकेदार टाइप नेताओं ने कांग्रेस को 20-22 वोट रखे थे बगस्याड में हुई समीक्षा बैठक में छाती ठोककर दंभ भरा था। नतीजे आए तो वहां कांग्रेस को 80 वोट पड़े, कमोवेश यही स्थिति लगभग हर पोलिंग बूथ की रही।
अब यह नेता चाय के ढावों और दुकानों में खुलेआम धमकी देते फिर रहे हैं कि हमें पता है किसका वोट बाहर गया है हमने उसकी लिस्ट तैयार कर ली है और जिनके घरों में सरकारी कर्मचारी हैं वह काजा किन्नौर लाहौल जाने को तैयार रहे। जो कर्मचारी नहीं है उन्हें मनरेगा कार्यों में सेल्फ डालने और भूमि सुधार के लिए भी तरसना पड़ेगा। सराज में डर और दहशत का माहौल तैयार किया जा रहा है। बताइये यह शब्दावली भाजपा का वोट बैंक बढ़ाएगी या घटाएगी ? अब सराज के किसी भी कर्मचारी का तबादला होता है और किसी व्यक्ति विशेष के काम में रूकावट आती है तो यह मान लिया जाएगा कि ठेकेदार टाइप नेताओं की धमकी काम कर रही और वह शिद्दत से मुख्यमंत्री का वोट बैंक घटाने में जुट गए हैं।

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने अरबों रूपये सराज के विकास के लिए लाया और इन नेता टाइप ठेकेदारों ने उसका भयानक दुरूपयोग किया। इन लोगों की करतूतों के कारण ही लोग चाहकर भी भाजपा को वोट नहीं दे पाए। इन लोगों ने ईमानदारी से काम किया होता तो सराज में कांग्रेस 12000 से 5000 पहुंचती जिसके 70-80 पोलिंग बूथों पर पोलिंग एजेंट भी नहीं थे।

सराज के लोगों ने उपचुनाव में वोट ठेकेदार टाइप नेताओं की लूट खसोट के खिलाफ दिया है मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के नहीं। अगर मुख्यमंत्री चुनाव के दौरान सराज पर फोकस नहीं करते तो यह आंकड़ा ज्यादा जा सकता था। भाजपा के ठेकेदार टाइप पदाधिकारियों का यही रवैया रहा तो 2022 में सराज में संगठन रहित नेतृत्वविहीन कांग्रेस के वोट का आंकड़ा 25 से 30 हजार भी पहुंच सकता है।

पार्टी विचारधारा से ऊपर उठाकर सभी सराजी चाहते हैं कि जयराम ठाकुर मुख्यमंत्री बने रहें और उनके नेतृत्व में दोबारा सरकार बने ताकि सराज का भला हो सके। पंडोह में मुख्यमंत्री की सीख के बाद भी जो भाजपाई सराज में विरोधियों की लिस्ट बनाने में मशगूल हैं वह ध्यान दें कि बार बार किसी को दबाने का प्रयास करोगे तो एक दिन वह प्रतिरोध करेगा ही। उपचुनाव में मुख्यमंत्री को सराज में दो दर्जन से अधिक जनसभाएं क्यों करनी पड़ी, विधानसभा चुनाव जो मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के नेतृत्व में लड़ा जाएगा क्या फिर वह सराज को इतना समय दे पाएंगे? इसपर मंथन करो और सबको विश्वास में लेकर साथ चलो और 2022 के लिए मुख्यमंत्री की राह सुगम बनाओ लोगों को डरा धमकाकर इसे और जटिल मत बनाओ।

HOTEL FOR LEASEHotel New Nakshatra

Hotel News Nakshatra for Lease. Awesome Property with 10 Rooms, Restaurant and Parking etc at Kullu.

error: Content is protected !!