हिमाचल प्रदेश में शादीशुदा महिलाओं के प्रति पतियों की घरेलू हिंसा की वारदातें पिछले कुछ सालों में बढ़ गईं हैं। हालांकि कुछ अन्य तरह की घरेलू हिंसाओं में शहरी और ग्रामीण स्तर पर कमी भी आई है। वहीं प्रदेश में औसतन हर तीसरा आदमी शराब और तंबाकू का सेवन करता है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के हर पांच साल पर जारी होने वाले नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे (एनएफएचएस) के आंकड़ों पर गौर करें तो ऐसे खुलासे हालिया रिपोर्ट में मिलते हैं 

कुल मिलाकर ऐसी हिंसा के मामलों में प्रदेश में औसतन आंकड़ा 8.3 फीसदी रहा। जो पांच साल पहले जारी हुए नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे के आंकड़ों से बढ़ा हुआ है। 2015-16 के आंकड़ों के मुताबिक ऐसी घटनाओं का प्रतिशत 5.9 ही था।

By

error: Content is protected !!