Right News

We Know, You Deserve the Truth…

एचआरटीसी में भ्रष्टाचार से घिरे अधिकारियों को बचाने के लिए निकाले जा रहे अनोखे तरीके : शंकर सिंह ठाकुर

IAS यूनुस खान ने एचआरटीसी के मुख्यालय को भ्रष्टाचार का प्रमुख अड्डा बना कर रखा !
*भ्रष्टाचार में संलिप्त अनेक अधिकारियों को बचाने के तलाशे गए निराले और आश्चर्यजनक तरीके !
गंभीर आर्थिक संकट से जूझ रही एचआरटीसी में भ्रष्टाचार से घिरे अधिकारियों को बचाने के निराले तरीके तलाशे जा रहे हैं ! इसका ज्वलंत प्रमाण राजधानी शिमला में मंडलीय प्रबंधक के पद पर लगाए गए एक फर्जी अधिकारी के बचाव में उठाए जा रहे कारनामों से मिला है ! जिसे पूर्व कांग्रेस सरकार में मंडलीय प्रबंधक के पद पर अवैध पदोन्नति मिली थी ! संघ द्वारा मामला हाईकोर्ट में पहुंचाने के बाद जिसे 7 साल के बाद मंडलीय प्रबंधक से रिवॉल्ट कर दिया गया है !
उल्लेखनीय है कि उक्त अधिकारी ने 2017 में हमीरपुर मंडल के प्रबंधक के तौर पर UnA से 62 लाख रुपए के रिकवरी के मामले में श्री अशोक कुमार किराएदार की मृत्यु की झूठी और मनगढ़ंत रिपोर्ट बनाकर मुख्य कार्यालय शिमला को भेज दी ! संघ की मांग पर सरकार ने इसकी उच्च स्तरीय जांच करवाई ! जांच में अनेक आश्चर्यजनक खुलासे हुए और किराएदार भी जीवित मिला ! सरकार ने 10 अगस्त 2018 को उक्त अधिकारी को निलंबित कर इसके खिलाफ अपराधिक मामला दर्ज करने का लिखित आदेश दिया ! लेकिन निगम प्रबंधन ने उसको बचाने के प्रयास में एफ आई आर दर्ज नहीं कराई ! संघ ने आगे आकर 30 मई 2019 को ऊना के सदर थाना में आईपीसी की धारा 420, 467, 468, 471 में एफ आई आर दर्ज कराई ! पुलिस जांच में अनेक आश्चर्यजनक खुलासे हुए ! जिसमें पुलिस ने कोर्ट में चालान पेश करने के लिए एचआरटीसी मुख्यालय से प्रॉसीक्यूशन अप्रूवल मांगी ! लेकिन लॉक डाउन की संवाद हीनता के दौर का फायदा उठाकर पूर्व प्रबंध निदेशक IAS यूनुस खान ने उक्त अधिकारी को बचाने के चक्कर में जानबूझकर प्रॉसीक्यूशन अप्रूवल न देकर उल्टे इस मामले में क्लोजर रिपोर्ट बनाने का पुलिस पर अनैतिक दबाव बनाया ! 2 वर्ष के लंबे अंतराल के बाद अंततः पुलिस ने पैंतरा बदल कर ऊना के कोर्ट नंबर 3 में उक्त मामले की क्लोजर रिपोर्ट दाखिल कर दी ! जिसके लिए अपने बयान दर्ज कराने के लिए मुझे कोर्ट से समन जारी किया गया है !
परिवहन मजदूर संघ के प्रदेश अध्यक्ष शंकर सिंह ठाकुर ने कहा कि पूर्व प्रबंध निदेशक IAS यूनुस खान ने लॉकडाउन के दौरान एचआरटीसी के मुख्य कार्यालय को भ्रष्टाचार का प्रमुख अड्डा बना कर रख दिया था ! एचआरटीसी में भ्रष्ट अधिकारियों को बचाने के ऐसे निराले तरीके इतिहास में पहली बार देखने और सुनने में आए हैं ! उन्होंने कहा कि इस मामले में Una पुलिस को कोर्ट से क्लोजर रिपोर्ट वापस लेकर पुलिस चालान तुरंत कोर्ट में पेश करना चाहिए ! भ्रष्टाचार के इस मामले में मुख्यालय से प्रॉसीक्यूशन अप्रूवल की कोई जरूरत ही नहीं है ! जिसमें सुप्रीम कोर्ट की रूलिंग की एक प्रतिलिपि Una के पुलिस अधीक्षक श्री अर्जित सेन ठाकुर को संघ ने उपलब्ध करवाई है !
शंकर सिंह ठाकुर ने कहा कि एचआरटीसी में भ्रष्टाचार किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा चाहे हमें इसकी कितनी भी कीमत क्यों न चुकानी पड़े ! उन्होंने कहा कि एचआरटीसी को पतन के गर्त में धकेलने वाले और इसकी अर्थव्यवस्था को तार-तार करने वाले वही लोग निकले जिनके कंधों पर इसे जनहित में चलाने और समृद्धशाली बनाने की महत्वपूर्ण जिम्मेदारी थी !

शंकर सिंह ठाकुर प्रदेश अध्यक्ष
हिमाचल परिवहन मजदूर संघ !

error: Content is protected !!