हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने मंगलवार को कहा कि प्रदेश आने वाले पर्यटकों को राज्य की सीमाओं पर कोरोना वायरस जांच की रिपोर्ट के लिए परेशान नहीं किया जाएगा। पिछले दिनों हिमाचल प्रदेश सरकार ने संक्रमण से सबसे ज्यादा प्रभावित राज्यों से आने वाले लोगों के लिए राज्य में प्रवेश करने पर कोविड-19 से पीड़ित नहीं होने की रिपोर्ट दिखाना अनिवार्य कर दिया था। अब ठाकुर ने कहा कि पर्यटकों के आगमन पर उनकी निगरानी करने के लिए व्यवस्था तैयार की गई है। 

उन्होंने संवाददाताओं से कहा, ”हम अपने पर्यटन उद्योग का ध्यान रखते हुए यह सुनिश्चित कर रहे हैं कि यह क्षेत्र पिछले साल की तरह कोरोना वायरस से प्रभावित नहीं हो। उद्योग के लिए मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) जारी की गयी है और इस पर निगरानी करने के लिए व्यवस्था तैयार की है। राज्य की सीमाओं पर कोरोना की रिपोर्ट के लिए पर्यटकों और अन्य आगंतुकों को परेशान नहीं किया जाएगा क्योंकि इससे उन्हें बहुत असुविधा होती है।”

ठाकुर ने कहा कि चूंकि ज्यादातर पर्यटक होटलों में ठहरते हैं इसलिए प्रशासन ने सात राज्यों से आने वाले लोगों पर उसी स्थान पर निगरानी के लिए व्यवस्था तैयार की है जहां पर वे ठहरेंगे। हिमाचल प्रदेश सरकार ने संक्रमण से ज्यादा प्रभावित सात राज्यों से लोगों को संक्रमण नहीं होने की रिपोर्ट दिखाना रविवार को अनिवार्य कर दिया था। ठाकुर ने कहा था कि पंजाब, दिल्ली, महाराष्ट्र, गुजरात, कर्नाटक, राजस्थान और उत्तर प्रदेश से आने वाले लोगों को 16 अप्रैल से हिमाचल प्रदेश में प्रवेश करने पर अधिकतम 72 घंटे पहले तक की आरटी-पीसीआर रिपोर्ट दिखानी होगी जिसमें संक्रमण नहीं होने की पुष्टि की गई हो।

मुख्यमंत्री एक दिन के दौरे पर शिमला से धर्मशाला आए हैं। वह कांगड़ा और आसपास के क्षेत्रों में कोरोना वायरस की स्थिति की समीक्षा के लिए उच्च स्तरीय बैठक की अध्यक्षता करेंगे।

error: Content is protected !!