मिलिए आजके कुम्भकर्ण से, लगातार 25 दिन सोता है यह आदमी

Read Time:3 Minute, 29 Second

रामायण के कुंभकरण का नाम तो आपने सुना ही होगा लेकिन आज हम आपको कलयुग के कुंभकरण से मिलवाने जा रहे हैं जो 25 दिनों तक सोते रहते हैं। इस बात पर विश्‍वास करना तो मुश्किल है लेकिन ये सच्‍चाई है। ये शख्‍स राजस्‍थान के जोधपुर संभाग स्थित नागौर जिले का है। जिनका नाम पुखराम हैं जो वर्ष में 300 दिनों तक सोते हैं।

42 साल के पुखाराम वर्ष के 365 दिन में 300 दिन तक सोते है। सोते में ही वो खाना-पीने, नहाना भी कर लेते हैं। दरअसल डॉक्‍टरों के अनुसार पुखाराम पिछले कई सालों से एक्सिस हायपरसोम्निया बीमारी से ग्रसि‍त है, ये एक साइकोलॉजिकल बीमारी है। ये बहुत ही रेयर बीमारी हैं इस बीमारी के कारण ये शख्‍स 25 दिनों तक नहीं जागते।

पुखाराम को ये बीमारी 23 साल पहले हुए थी। शुरूआती दौर में ये 18-18 घंटे सोते थे। धीरे-धीरे इनकी नींद बढ़ती गई, अब ये आलम हैं कि ये अधिकांश समय सोते ही नजर आते हैं। पुखाराम को लोग कुंभकरण के नाम से पुकारते हैं।

धीरे-धीरे बढ़ती गई नींद की अवधि

नागौर जिले के परबतसर उपखंड के भादवा गांव निवासी पुरखाराम की किराने की दुकान चलाते हैं जिसे वो अपनी बीमारी के कारण महज 5 से 6 दिन ही ओपेन कर पाते हैं। पुखाराम के परिवार ने बताया 20-25 दिनों तक नहीं जागते, शुरूआत में पांच छह दिन ही सोते थे, हम उन्‍हें खाने को दे देते थे वो सोते हुए खाते और पड़ जाते थे। घर वाले कितना भी जगाते हैं तो भी वो नहीं जागते थे।

सुखाराम की सोने की आदत से त्रस्‍त होकर उनके परिजनों जब डॉक्‍टर को दिखाया तो इस बीमारी का पता चला। 2015 से उनकी यह बीमारी बढ़ गई। बीते रविवार को पुखाराम की पत्‍नी लिछमी देवी ने बहुत प्रयास किया तो उसके पति की नींद खुली और 12 दिन बाद पुरखाराम ने अपनी दुकान खोली। पुखाराम ने कहा मैं अपनी इस बीमारी से परेशान हूं, भूखे रहता हूं तो नींद नहीं आती, लेकिन कितने दिन नहीं खाऊं, जीने के लिए तो खाना तो पड़ेगा ही।

सुखाराम अब दवा खाकर थक चुके हैं उनकी मां कंवरी देवी और पत्नी लिछमी देवी को अभी भी उम्‍मीद है कि वो ठीक हो जाएंगे। विशेषज्ञ डॉक्‍टर के अनुसार ये हायरपरसोम्रिया का मामला है। ये बीमारी रेयर है। किसी को अगर पुराना ट्यूमर या पहले कभी हेड इंज्‍यूरी हुई हो तो ऐसी बीमारी होती है। डॉक्‍टरों के अनुसार बीमारी का सही समय पर डाइग्‍नोसिस करने से ट्रीटमेंट संभव है।

error: Content is protected !!
Hi !
You can Send your news to us by WhatsApp
Send News!