हिमाचल प्रदेश के चंबा जिले में दो बार कोरोना पर जीत पाने वाला चिकित्सक दंपती दूसरों के लिए मिसाल कायम कर रहा है। खुद दोनों दो बार संक्रमित हो चुके हैं। दोनों बार कोरोना से जंग जीतने वाला यह दंपती फिर से लोगों की सेवा में जुट गया है। चिकित्सक राहुल नरूला एक वर्ष से प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र मेल में तैनात हैं। पत्नी श्वेता सेठी मेडिकल कॉलेज चंबा में माइक्रो बायो डिपार्टमेंट में कोरोना योद्धा की भूमिका अदा कर रही हैं।

डॉ. राहुल नरूला पंजाब के फिरोजपुर के रहने वाले हैं। राहुल ने बताया कि कोविड महामारी की चपेट में बीते वर्ष सितंबर माह में आए थे। लक्षण दिखने पर बिना समय गंवाए होम क्वारंटीन हो गए।

कुछ ही दिनों बाद वह स्वस्थ हो गए। स्वस्थ होने के बाद उन्होंने ड्यूटी ज्वाइन कर ली। उन्होंने कहा कि कोविड की दूसरी लहर भयावह है। जनवरी माह में फिर से वह कोरोना संक्रमण का शिकार हो गए।

इस दौरान उनकी पत्नी भी इस संक्रमण से नहीं बच पाई। राहुल की हालत गंभीर होने पर उन्हें डलहौजी अस्पताल में एडमिट होना पड़ा। उनकी पत्नी क्वार्टर में ही होम क्वारंटीन हो गई। अब दोनों पूरी तरह से स्वस्थ हैं और जनसेवा में जुट गए हैं। दोनों ने लोगों से अपील की है कि वे कोविड महामारी को हल्के में न लें। कोरोना का प्रभाव जानलेवा है। महामारी से मास्क पहनकर, उचित दूरी बनाने, सैनिटाइजर से हाथ साफ करने, बेवजह घर से बाहर न निकलकर ही बचा जा सकता है।

error: Content is protected !!