शिवरात्रि महोत्सव में भव्य देव समागम के लिए छोटी काशी पूरी तरह तैयार है। महोत्सव में पधारने वाले देवी-देवताओं के स्वागत और सुविधा के लिए तमाम इंतजाम कर लिए गए हैं। उपायुक्त एवं अंतर्राष्ट्रीय शिवरात्रि महोत्सव मंडी के अध्यक्ष ऋग्वेद ठाकुर ने बताया कि महोत्सव में इस बार भी सभी 216 पंजीकृत देवी-देवताओं को आमंत्रित किया गया है। देवी-देवताओं और साथ आने वाले कारदारों, देवलुओं को विभिन्न मंदिरों, स्कूलों व अन्य भवनों में ठहराने की समुचित व्यवस्था की गई है। उन्होंने कहा कि देवी देवताओं को धूप, चादर, नारियल, मिठाई, लकडी व अन्य सामग्री प्रदान करने के लिए सभी औपचारिकताएं पूरी कर ली गई हैं। मेले के दौरान यू-ब्लॉक में लगने वाले लंगर में सामाजिक दूरी के सिद्धांत की अनुपालना की जाएगी तथा मेले के दौरान लंगर बनाने वाले बोटियों का कोविड टैस्ट किया जाएगा । हर देवता के साथ आए पांच देवलुओं को प्रशासन ने कोविड अनुपालना अधिकारी बनाया है। वे देवताओं के साथ आने वाले सभी देवलुओं को कोरोना से बचाव को जागरूक करने के अलावा अनिवार्य रूप से मास्क लगाए रखना सुनिश्चित करेंगे।

मेले में हर समय पहने रखें मास्क
उपायुक्त ने मेले में आने वाले सभी लोगों से कोविड प्रोटोकॉल का पूरा पालन करने और मेले में हर समय मास्क का प्रयोग करने की अपील की है। उन्होंने लोगों से मास्क खराब होने की स्थिति में यहां वहां फेंकने की बजाए प्रशासन द्वारा जगह जगह रखे कूड़ादान में डालने का आग्रह किया। उन्होंने बताया कि प्रशासन द्वारा पड्डल मैदान के प्रवेश व निकासी द्वार पर थर्मल स्क्रीनिंग, सनेटाईजर तथा हैंड वाश की व्यवस्था रहेगी। बता दें, जिला प्रशासन ने 65 वर्ष से ज्यादा उम्र, विभिन्न प्रकार की बीमारियों से ग्रस्त व्यक्तियों, गर्भवती महिलाओं व दस साल से कम उम्र के बच्चों को मेले में न आने की सलाह दी गई है ।

स्वास्थ्य से संबंधी परेशानी पर 104 या 1077 पर करें कॉल
उन्होंने आम नागरिकों से आग्रह किया कि अगर किसी व्यक्ति को मेले के दौरान स्वास्थ्य से संबंधित कोई परेशानी होती है तो वह टोल फ्री नम्बर 104 या 1077 पर सम्पर्क कर सकते हैं । उन्होंने सभी लोगों से मेले के दौरान आरोग्य सेतु ऐप को अपने मोबाईल में डाउनलोड करने तथा मेले के दौरान अपने आराध्य देवी-देवताओं के दर्शन व पूजा करते समय किसी भी देवी देवता के रथ व किसी भी वस्तु को न छूने की सलाह दी ।

उपायुक्त ने बताया कि इस वर्ष शिवरात्रि महोत्सव के लिए पड्डल मैदान से 1.48 करोड़ रुपये आय अर्जित हुई, जबकि झूलों से 32.10 लाख रुपये, तम्बोला से 7.72 लाख रुपये तथा रेड़ी-फड़ी से 1.01 लाख रूपये की राशि अर्जित हुई । उन्होंने बताया कि यह राशि महोत्सव को सुचारू रूप से मनाने के लिए देवताओं के आगमन पर, उनके ठहरने व राशन आदि की व्यवस्था तथा अन्य गतिविधियों पर खर्च की जाएगी ।

error: Content is protected !!