पूर्व सीपीएस को थप्पड़ मारने वाले शख्स ने पंचायत प्रधान पर लगाए आरोप, जानिए क्या बोला

नवगठित पंचायत में नए पंचायत घर की स्थापना का लेकर उपजे विवाद ने सुलह विधानसभा क्षेत्र की राजनीति में ऊफान ला दिया है। इस विवाद को लेकर शनिवार को उस समय नया मोड़ आया जब पूर्व संसदीय सचिव को थप्पड़ मारने को लेकर आरोपों के घेरे में आए व्यक्ति ने संबंधित पंचायत प्रधान पर ही उसे बुलाने का आरोप जड़ दिया। यद्यपि पंचायत प्रधान ने इस आरोप को सिरे से खारिज कर दिया है। विवादों में आए व्यक्ति सबीर सिंह ने आरोप लगाया कि पंचायत प्रधान ने उसे हंगामा करने के लिए बुलाया तथा प्रधान ने उसे बचा लेने व मदद करने बारे आश्वस्त किया था। उसने कहा कि उसका भाजपा व कांग्रेस से कोई लेना-देना नहीं है। उसने माना कि उसने शराब पी रखी था तथा प्रधान के कहने पर ही उसने यह कार्य किया। वहीं उसने माना कि उसने गलती की है। उधर, रड़ा पंचायत प्रधान लेखराज ने सबीर सिंह द्वारा लगाए गए आरोप को सिरे से नकारते हुए कहा कि भाजपा कार्यकर्ता का यह आरोप सरासर झूठा है तथा अपने आप को बचाने के लिए किसी के बहकावे में आकर वह इस प्रकार की बयानबाजी कर रहा है। लेखराज ने कहा कि उन्होंने किसी को नहीं बुलाया था।

कुरल पंचायत से अलग नई पंचायत बनी है रड़ा

ग्राम पंचायत रड़ा में नए पंचायत भवन की स्थापना को लेकर सारा विवाद पनपा है। पंचायत चुनाव से पहले कुरल पंचायत से अलग रड़ा को नई पंचायत बनाया गया तथा इसमें रड़ा, मंडप तथा मट्ट के कुछ क्षेत्र को शामिल किया गया है, ऐसे में नवगठित इस पंचायत में पंचायत घर का निर्माण किया जाना है। पंचायत प्रधान लेखराज के अनुसार वर्ष 1972 के बंदोबस्त में पंचायत घर के लिए बाकायदा एक नंबर चिन्हित किया गया है तथा पंचायत के अधिकांश सदस्य उसी स्थान पर पंचायत भवन बनाने की मांग कर रहे हैं जबकि बिना पंचायत को ही विश्वास में लिए रड़ा में पंचायत भवन बनाने का शिलान्यास रख दिया गया।

क्या कहते हैं भूमि दान देने वाले घनश्याम परमार

पंचायत भवन के लिए भूमि दान देने वाले घनश्याम परमार ने कहा कि रड़ा नई पंचायत बनी है, इसमें पंचायत भवन बनना चाहिए परंतु भूमि का कोई प्रस्ताव न होने से यह भवन नहीं बन रहा था। रड़ा पंचायत ने पंचायत भवन के लिए जमीन का कोई प्रस्ताव विकास खंड कार्यालय सुलह में नहीं दिया, जिस पर विकास खंड सुलह से कहा गया कि भवन के लिए जमीन का कोई प्रस्ताव नहीं आया तो भवन कहां और कैसे बनाया जाएगा। इस पर उन्होंने अपनी जमीन पंचायत भवन के लिए दान की। ऐसे में पंचायत के नए भवन के शिलान्यास कार्यक्रम में भाग लेने विधानसभा अध्यक्ष विपिन सिंह परमार रड़ा पहुंचे थे, वहीं पूर्व मुख्य संसदीय सचिव जगजीवन पाल विरोध करने वाले लोगों के समर्थन में धरने के लिए पहुंचे थे। इसी मध्य हाथापाई हुई तथा एक व्यक्ति ने पूर्व संसदीय सचिव जगजीवन पाल पर प्रहार किया था।

SHARE THE NEWS:
error: Content is protected !!