Right News

We Know, You Deserve the Truth…

स्पीकर श्रीरामकृष्णन पर गंभीर आरोप, स्वप्ना सुरेश ने कहा गंदी नियत से बुलाते थे

केरल में बहुचर्चित सोने की तस्करी मामले की मुख्य आरोपी स्वप्ना सुरेश ने प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के सामने बड़ा खुलासा किया है। स्वप्ना सुरेश ने ईडी को बताया है कि केरल विधानसभा के स्पीकर पी. श्रीरामकृष्णन उसे तिरुवनंतपुरम में एक फ्लैट पर गंदे इरादों से बुलाते थे। इससे पहले कस्टम विभाग की पूछताछ के दौरान स्वप्ना सुरेश ने केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन और कैबिनेट के तीन मंत्रियों का नाम लिया था। सपना ने इन सभी के गोल्ड स्मगलिंग केस में शामिल रहने की बात कही थी।

ईडी के सवाल का जवाब देते हुए कि क्या श्रीरामकृष्णन का ओमान में मिडिल ईस्ट कॉलेज के अलावा कोई अन्य निवेश है, स्वप्ना ने बताया कि मध्य पूर्व के कॉलेज, ओमान में श्रीरामकृष्णन के निवेश के अलावा, जहां तक कि वे मारुथम में फ्लैट जानती हैं, श्रीरामकृष्णन का है, लेकिन यह किसी अन्य व्यक्ति के नाम पर है और उसने मुझे फ्लैट के असली मालिक के बारे में बताया कि वह मुझे सुरक्षित महसूस करा सके क्योंकि वह मुझे कुछ व्यक्तिगत गंदे इरादों के लिए बुलाते थे।

अपने बयान में स्वप्ना ने यह भी कहा कि आईएएस अधिकारी एम शिवशंकर और उनकी टीम ने जो कुछ भी किया वह मुख्यमंत्री के संज्ञान के साथ था। वह मुख्यमंत्री कार्यालय में शिवशंकर की टीम की ओर से निभाई गई भूमिका का जिक्र करते हुए ईडी के सवाल का जवाब दे रही थी। इसमें रवींद्रन, पुत्तलथ दिनेश, स्टार्टअप मिशन के सीईओ साजी गोपीनाथ, और रेसी जॉर्ज शामिल हैं।

स्वप्ना ने बताया कि शिवशंकर की टीम को यूएई वाणिज्य दूतावास, त्रिवेंद्रम में किए गए सभी गैरकानूनी कामों के बारे में पता था और जब भी उन्हें संयुक्त अरब अमीरात में कोई सुविधा चाहिए तो उन्होंने इसे संयुक्त अरब अमीरात वाणिज्य दूतावास, त्रिवेंद्रम के माध्यम से करवाया। इसके अलावा स्वप्ना ने कहा कि सीएमओ टीम ने टेंडर के बिना उरलुंगल लेबर कॉन्ट्रैक्ट सोसाइटी को अलग-अलग विभागों के तहत सरकार के प्रमुख परियोजना कार्यों को आवंटित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

error: Content is protected !!