मुख्यमंत्री उच्च शिक्षा योजना के तहत दी जाने वाली वार्षिक छात्रवृत्ति को बंद किए जाने से छात्रों में गहरा रोष है । मंगलवार को अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के बैनर तले सैंकड़ों छात्र रैली के रूप में कलेक्ट्रेट पहुंचे। छात्रों ने कलेक्ट्रेट पर प्रदर्शन कर अपने गुस्से का इजहार किया। उन्होंने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का पुतला जलाने का प्रयास किया, तो पुलिस ने उन्हें रोक दिया। इसको लेकर कुछ देर के लिए पुलिस से छात्रों की झड़प भी हुई, लेकिन बाद में छात्र मान गए।

जिला कलेक्टर को मुख्यमंत्री के नाम सौंपा ज्ञापन
इसके बाद छात्रों ने जिला कलेक्टर को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के नाम ज्ञापन सौंपा। साथ ही जल्द से जल्द छात्रवृत्ति शुरू करवाने के लिए गुहार लगाई। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के प्रांत सह मंत्री मेहुल गर्ग व अन्य छात्र नेताओं ने बताया कि एक तरफ सरकार उच्च शिक्षा को बढ़ावा देने की बात कर रही है। तो दूसरी ओर कोरोना के चलते विद्यार्थियों की वार्षिक 5 हजार रुपए की छात्रवृत्ति को बंद किया जा रहा है, जो कि छात्रों पर विपरीत असर डाल रही है। कोरोना के कारण परिवार की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है। ऐसे समय में छात्रवृत्ति बंद करने से शिक्षा पर इसका प्रभाव पड़ेगा। ऐसे में कलेक्ट्रेट पर जोरदार प्रदर्शन किया गया और जिला कलक्टर को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के नाम ज्ञापन दिया।

मांग की गई है। साथ ही चेतावनी भी दी गई कि अगर छात्रवृत्ति जल्द ही शुरू नहीं की जाती है तो एबीवीपी प्रदेश भर में उग्र आंदोलन चलाएगी, जिसकी जिम्मेदारी सरकार की होगी।

You have missed these news

error: Content is protected !!