टीहरा के छात्र ने कम अंक आने के डर से किया केस, 10वी के परिणाम घोषित करने पर लगी अनिश्चिकालीन रोक

Read Time:2 Minute, 49 Second

Himachal News: हिमाचल प्रदेश स्‍कूल शिक्षा बाेर्ड के दसवीं कक्षा के परिणाम पर रोक लग गई है। शिक्षा बोर्ड ने दसवीं का परिणाम अस्थायी समय के लिए स्थगित कर दिया है। अब हिमाचल प्रदेश स्कूल शिक्षा बोर्ड आज परणाम घोषित नहीं करेगा। हाई कोर्ट में किसी ने अंक सूची तैयार करने के प्रारूप को लेकर याचिका दायर की है। उस कारण शिक्षा बोर्ड ने परिणाम को लेकर कोर्ट के आदेशों के अनुसार अस्थायी समय के लिए स्थगित किया है।

जिला हमीरपुर के सुजानपुर टीहरा के एक स्कूल का छात्र कोरोना संक्रमित होने के कारण हिंदी का पेपर नहीं दे पाया था। कम अंक मिलने के डर से उसने हाई कोर्ट में केस कर दिया। केस की सुनवाई आज दोपहर बाद 2 बजे होगी।

दरअसल, शिक्ष बोर्ड की ओर से दसवीं का परीक्षा परिणाम तैयार करने के लिए सात मानदंड तय किए थे। इसके तहत नौवीं कक्षा, प्रैक्टिकल, इंटरनल असेस्मेंट, फर्स्‍ट व सैकेंड टर्म एग्जाम, प्री-बोर्ड व हिंदी का पेपर जो बोर्ड की ओर से ले लिया गया है, उसका मूल्यांकन करवाने के बाद आकलन कर विद्यार्थियों का परीक्षा परिणाम तैयार किया गया है। इसी आधार पर शिक्षा बोर्ड मे‍रिट सूची भी जारी करने की तैयारी में था। लेकिन मामला कोर्ट में पहुंच गया व ऐन मौके पर शिक्षा बोर्ड को परीक्षा परिणाम पर रोक लगानी पड़ी।

दसवीं कक्षा में एक लाख 31 हजार 902 परीक्षार्थी हैं, जिनमें 1,16,973 नियमित व 14,929 एसओएस परीक्षार्थी हैं। शिक्षा बोर्ड ने पहले ही तय किया था कि यदि परिणाम आने के बाद भी अगर कोई विद्यार्थी अपने रिजल्‍ट से संतुष्ट नहीं है तो उनके परिणाम का पुन: आंकलन करवाया जाएगा। इसके लिए बोर्ड की ओर से तिथि भी निर्धारित की जाएंगी। इसके अलावा दोबारा परीक्षा देने का भी मौका मिल सकता था। लेकिन मामला कोर्ट में जाने के बाद रिजल्‍ट पर रोक लग गई है।

error: Content is protected !!
Hi !
You can Send your news to us by WhatsApp
Send News!