पूर्व प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे, उनके सहयोगियों के देश छोड़ने पर श्रीलंका कोर्ट ने लगाया प्रतिबंध

RIGHT NEWS INDIA: श्रीलंका की एक अदालत ने सरकार विरोधी प्रदर्शनकारियों के खिलाफ हिंसा के कृत्यों को लेकर गुरुवार को पूर्व प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे, उनके राजनेता बेटे नमल और 15 सहयोगियों के देश छोड़ने पर प्रतिबंध लगा दिया। राजधानी कोलंबो में मजिस्ट्रेट ने पुलिस से सोमवार को शांतिपूर्ण प्रदर्शनकारियों पर भीड़ के हमलों की जांच करने को कहा, जिसके कारण जवाबी हिंसा हुई जिसमें नौ लोगों की मौत हो गई और व्यापक हिंसा हुई।

अदालत के एक अधिकारी ने एक समाचार एजेंसी को बताया कि अदालत में एक याचिका में राजपक्षे और उनके सहयोगियों के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट भी मांगा गया था। अधिकारी ने कहा, ‘लेकिन मजिस्ट्रेट ने इसे ठुकरा दिया क्योंकि पुलिस के पास किसी भी संदिग्ध को हिरासत में लेने का अधिकार है।’

सोमवार की हिंसा के पीड़ितों का कहना है कि राजपक्षे और उनके प्रमुख सहयोगियों ने उनके करीब 3,000 समर्थकों को राजधानी में घुसकर शांतिपूर्ण प्रदर्शनकारियों पर हमला करने के लिए उकसाया था। फिर भीड़ उनके आवास से बाहर पहुंची और सरकार विरोधी प्रदर्शनकारियों पर लाठियों से हमला किया। हमले के बाद अस्पताल में भर्ती कम से कम 225 लोगों में बौद्ध भिक्षु और कैथोलिक पादरी भी शामिल थे।

राजपक्षे के समर्थकों के दर्जनों घरों में आग लगाने के साथ जल्द ही देश भर में प्रतिशोध फैल गया। पीएम ने इस्तीफा दे दिया और भारी हथियारों से लैस सैनिकों के साथ उन्हें अपने घर से निकलना पड़ा। 76 वर्षीय पूर्व नेता वर्तमान में द्वीप राष्ट्र के पूर्व में एक नौसैनिक बेस में ठिकाना बनाए हुए हैं। उनके बेटे नमल ने मंगलवार को एक समाचार एजेंसी को बताया कि परिवार का देश छोड़ने का कोई इरादा नहीं है।

Other Trending News and Topics:

Comments:

error: Content is protected !!