रॉबिन उथप्पा ने क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से लिया सन्यास, ट्वीट कर दी जानकारी

0
82

भारत के स्टार बल्लेबाज रॉबिन उथप्पा ने क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से संन्यास ले लिया है। उन्होंने ट्वीट के जरिए इसकी जानकारी दी है। भारत की 2004 अंडर-19 विश्व कप टीम के सदस्य उथप्पा ने 2006 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में डेब्यू किया और इस दौरान उन्होंने 46 वनडे और 13 T20I खेले।

रॉबिन उस टीम का हिस्सा थे, जिसने 2007 में दक्षिण अफ्रीका में उद्घाटन टी20 विश्व कप जीता था। उन्होंने कर्नाटक के साथ कई घरेलू खिताब भी जीते और दो बार आईपीएल खिताब 2014 में कोलकाता नाइट राइडर्स के साथ और 2021 में चेन्नई सुपर किंग्स के साथ जीता। रॉबिन उथप्पा 2007 में हुए टी20 वर्ल्ड कप विनिंग टीम का हिस्सा थे। वह उन खिलाड़ियों में शामिल थे, जिन्होंने पहले टी20 विश्व कप में पाकिस्तान के खिलाफ बॉल आउट किया था। दो बार के आईपीएल चैंपियन और पूर्व ऑरेंज कैप विजेता उथप्पा ने 2006 में इंग्लैंड के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पदार्पण किया था।

उन्होंने ट्वीट करके लिखा, ”अपने देश और अपने राज्य कर्नाटक का प्रतिनिधित्व करना मेरे लिए सबसे बड़ा सम्मान रहा है। हालांकि, सभी अच्छी चीजों का अंत होना चाहिए, और कृतज्ञ हृदय के साथ, मैंने भारतीय क्रिकेट के सभी प्रारूपों से संन्यास लेने का फैसला किया है। आप सभी को धन्यवाद

रॉबिन उथप्पा ने अपने बयान में लिखा, “मुझे पेशेवर क्रिकेट खेलना शुरू किए 20 साल हो गए हैं और यह मेरे देश और राज्य, कर्नाटक का प्रतिनिधित्व करने के लिए सबसे बड़ा सम्मान रहा है – उतार-चढ़ाव से भरी एक अद्भुत यात्रा; एक जो संतोषजनक, पुरस्कृत और आनंददायक रही है और मुझे एक इंसान के रूप में विकसित होने के लिए अनुमति दी।”

उन्होंने आगे लिखा, “हालांकि, सभी अच्छी चीजों का अंत होना चाहिए, और आभारी दिल के साथ, मैंने भारतीय क्रिकेट के सभी प्रारूपों से संन्यास लेने का फैसला किया है। जबकि मैं अपने युवा परिवार के साथ महत्वपूर्ण समय बिताऊंगा, मैं अपने जीवन के एक नए चरण के बारे में बात करने के लिए उत्सुक हूं।”

उनके करियर की शुरुआत 50 ओवर के प्रारूप से हुई, उन्होंने गुवाहाटी में इंग्लैंड के खिलाफ डेब्यू किया। इस दौरान उन्होंने 46 वनडे मैच खेले और उसमें कुल 934 रन बनाए, जिसमें 86 उनका सर्वोच्च स्कोर था।

उथप्पा के अटैकिंग शैली ने उन्हें टी20 विश्व कप के उद्घाटन संस्करण के लिए भारत की टीम में जगह बनाने में मदद की, जो आखिरी में भारत ने अपने नाम किया। वह उन भारतीय गेंदबाजों में से एक थे, जिन्होंने भारत और पाकिस्तान के बीच यादगार बॉल आउट के दौरान स्टंप्स को हिट किया था। विकेटकीपर बल्लेबाज उथप्पा ने भारतीय टीम के लिए 46 वनडे और 13 टी-20 मुकाबले खेले हैं। वह हालांकि भारत की टेस्ट टीम में जगह बनाने में असफल रहे। उथप्पा (36) ने नौ अप्रैल 2006 को गुवाहटी के नेहरू स्टेडियम में इंग्लैंड के खिलाफ मैदान में उतर कर अपने एक वनडे अंतरराष्ट्रीय करियर की शुरूआत की थी। उनका आखिरी वनडे मुकाबला 14 जुलाई 2015 को हरारे में जिम्बाब्वे के खिलाफ था। उथप्पा ने 25.94 की औसत से 46 अंतरराष्ट्रीय एकदिवसीय मैचों में भारत के लिये 934 रनों का योगदान दिया जिसमें उनके पदार्पण मैच के 86 रन शामिल हैं।

कर्नाटक के विस्फोटक बल्लेबाज उथप्पा ने अपने टी-20 करियर की शुुरूआत 13 सितंबर 2007 को स्काटलैंड के खिलाफ की जबकि अंतिम टी-20 मुकाबला 19 जुलाई 2015 को हरारे में जिंबाववे के खिलाफ खेला। वह 2007 टी-20 वश्विकप विजेता टीम के सदस्य रहे। उथप्पा ने अपने टी-20 करियर में 118 के स्ट्राइक रेट से 249 रन बनाए। उथप्पा ने वनडे और टी-20 मैचों में कुल 1183 रन बनाए।

आईपीएल फ्रेंचाइजी के लिये उथप्पा पंसदीदा खिलाड़ी रहे। मुबंई इंडियन का साथ निभाकर उन्होने अपने आईपीएल करियर का आगाज किया, मगर इस बीच उन्हें कोलकाता नाइट राइडर्स और रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर ने भी पसंद कर अपनी टीम में जगह दी। उन्होंने 205 आईपीएल मैचों में 130.25 के स्ट्राइक रेट से 4959 रन बनाए हैं, जिसमें उनके 481 चौके और 182 छक्के हैं।

समाचार पर आपकी राय: