हिमाचल में प्राथमिक और उच्च शिक्षा विभागों में तैनात 2555 एसएमसी शिक्षक नियमित नहीं किए जाएंगे। विधानसभा में शुक्रवार को सरकार से शिक्षा विभाग में कार्यरत एसएमसी अध्यापकों को नियमित करने के लिए नीति बनाने के विचार से संबंधित सवाल रेणुकाजी के विधायक विनय कुमार, आनी के विधायक किशोरीलाल, अर्की के विधायक वीरभद्र सिंह, शिलाई के विधायक हर्षवर्धन चौहान की ओर से संयुक्त रूप से पूछा गया।

इस पर शिक्षा मंत्री गोविंद ठाकुर ने जवाब देते हुए बताया कि इस तरह का कोई भी प्रस्ताव विचाराधीन नहीं है। एसएमसी शिक्षकों को नियमित करने के मामले में प्रदेश सरकार सुप्रीम के आदेश के अनुरूप काम कर रही है। वहीं अनुपूरूक सवाल करते हुए मुकेश अग्निहोत्री ने सवाल किया कि पहले वाले शिक्षा मंत्री कहते थे कि इन्हें नियमित किया जाएगा। क्या इसी सत्र में मुख्यमंत्री से अनाउंस करवाएंगे कि नहीं। इसका जवाब देते हुए मंत्री ने कहा कि सर्वोच्च न्यायालय की अनुपालना की जा रही है। उद्देश्यपूर्ति के लिए एसएमसी शिक्षकों को रखा गया है। सुप्रीम कोर्ट की तरफ से ऐसी नहीं बोला गया है कि इन्हें नियमित किया जाए। इसलिए सरकार उनको नियमित करने पर विचार नहीं कर रही है।

You have missed these news

error: Content is protected !!