Right News

We Know, You Deserve the Truth…

सरकारी स्कूलों के पाठ्यक्रम में शामिल होंगे बौद्धिक, मानसिक और शारीरिक विकास के पाठ

हिमाचल प्रदेश के सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले विद्यार्थियों के पाठ्यक्रम में बौद्धिक, मानसिक और शारीरिक विकास के पाठ शामिल किए जाएंगे। उच्च शिक्षा निदेशालय ने समरूप क्रियाकलाप रूपरेखा तैयार करने के सभी जिला अधिकारियों को निर्देश दिए हैं। जिला अधिकारियों के साथ हुई वीडियो कॉन्फ्रेंस में उच्च शिक्षा निदेशक ने कहा कि सभी पात्र विद्यार्थियों का नामांकन सुनिश्चित किया जाए।

शिक्षा निदेशक डॉ. अमरजीत कुमार शर्मा कहा कि सभी नामांकित विद्यार्थियों को व्हाट्सएप ग्रुप से जोड़ा जाए। जो विद्यार्थी किन्हीं अपरिहार्य कारणों से व्हाट्सएप ग्रुप से नहीं जुड़ पाए, उसकी सूचना जल्द से जल्द शिक्षा निदेशालय को भेजी जाए। व्हाट्सएप ग्रुप से नहीं जुड़ पाने वाले विद्यार्थियों को पठन सामग्री उपलब्ध करवाई जाए।

उन्होंने कहा कि शिक्षण अधिगम को और अधिक संवादात्मक और रोचक बनाया जाएगा। इसके लिए कुछ नहीं गतिविधियों को भी जोड़ा जाएगा। उन्होंने सभी अधिकारियों को निशुल्क पाठ्य पुस्तकों के वितरण का लाभ सभी पात्र विद्यार्थियों तक जल्द से जल्द पहुंचाने के लिए निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि विभाग के सभी अध्यापकों को कोरोना योद्ध मानकर उनके टीकाकरण की पहल की जाए। इस बारे में जिला के उपायुक्त एवं टीकाकरण अधिकारी के समक्ष मामला भी उठाया जाए। वीडियो कांफ्रेंस में उच्च शिक्षा निदेशालय से अतिरिक्त निदेशक नीरज कुमार गुप्ता, डॉ. प्रमोद चौहान, सह निदेशक डॉ. अशीथ कुमार मिश्रा, डॉ. अंजू शर्मा, प्रारंभिक शिक्षा विभाग से सह निदेशक हितेश आजाद और समग्र शिक्षा अभियान से अनीमा शर्मा मौजूद रहे।

error: Content is protected !!