मंडी के सराज विधानसभा क्षेत्र के छतरी के रहने वाले हीरा लाल की दो दिन पहले पूर्ण चंद और उसके बेटे कैलाश ने हमला कर दिया। जिसके चलते हीरा लाल लहुलूहान हो गया। घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। उसके बाद पिछले कल पीड़ित ने अपना एक वीडियो सोशल मीडिया पर जारी किया और बताया कि आरोपी लंबे अरसे से उनको और उनके परिवार को मानसिक और शारीरिक रूप से प्रताड़ित करते आ रहे है। पीड़ित ने इस घटना का मुख्य कारण आरोपियों की नजर उनकी निजी भूमि पर होना बताया।

जानकारी के मुताबिक आरोपियों ने पीड़ित की बहुत बुरी तरह मारा था जिसके चलते पीड़ित की नाक सिर आदि जगहों में गंभीर चोटें आई है। मारपीट के बाद पीड़ित घर चला गया था। लेकिन भारी दर्द होने के कारण पीड़ित ने आधी रात को एम्बुलेंस बुलाई और इलाज के लिए आनी हॉस्पिटल गया। आपको बता दें कि सराज में स्वास्थ्य सेवाओं की हालत इतनी खराब है कि पीड़ित को जंजैहली और छतरी से एम्बुलेंस नही मिल पाई और इसी कारण उनको आनी हॉस्पिटल जाना पड़ा। आपको जानकर हैरानी होगी कि हॉस्पिटल की डॉक्टर और बीएमओ तक ने पीड़ित की मदद करने से इनकार कर दिया था।

पुलिस की कार्यप्रणाली भी इस केस में शक के घेरे में है, स्थानीय लोगों और पीड़ित के अनुसार उनको आनी हॉस्पिटल में कोई इलाज नही दिया गया। पुलिस को हॉस्पिटल पहुंचने में पांच घंटों का समय लगा। जबकि आनी पुलिस स्टेशन हॉस्पिटल से थोड़ी दूर स्थित है। स्थानीय सामाजिक कार्यकर्ताओं द्वारा मामला उठाए जाने पर पुलिस और प्रशासन हरकत में आया और आरोपियों के खिलाफ मारपीट और अनुसूचित जाति अधिनियम की धाराओं में मामला दर्ज किया गया। स्थानीय लोगों ने इस मामले में कानूनी कार्यवाही में लापरवाही को लेकर प्रशासन से जांच की मांग की है।

उधर डीएसपी करसोग गीतांजलि ठाकुर ने बताया कि मामला उनके ध्यान में है और एससी एसटी एक्ट की धारा तीन में दर्ज करके आगामी कार्यवाही शुरू कर दी है। उन्होंने आश्वासन दिया है कि जल्दी ही आरोपियों को सलाखों के पीछे डाला जाएगा।

error: Content is protected !!