Right News

We Know, You Deserve the Truth…

कॉंग्रेस के युवा कार्यकर्ताओं को सैनिटाइजेशन करने से रोकने पर भड़के विधायक सतपाल रायजादा

युवा कांग्रेस और एनएसयूआई के कार्यकर्ताओं को जिला मुख्यालय पर सैनिटाइजेशन करने से एसडीएम ऊना द्वारा रोके जाने पर विवाद खड़ा हो गया। मामला बढ़ता देख मौके पर पहुंचे ऊना सदर के विधायक सतपाल सिंह रायजादा भी आग बबूला हो गए। दरअसल एसडीएम ऊना ने सैनिटाइज कर रहे युवा कांग्रेस और एनएसयूआई के कार्यकर्ताओं को कोरोना कफ्र्यू का हवाला देते हुए काम करने से रोक दिया। कार्यकर्ताओं द्वारा मामले की सूचना विधायक सतपाल रायजादा को दी गई, जिसके बाद रायजादा मौके पर पहुंचे और उन्होंने प्रशासन पर सत्ता पक्ष के दबाव में काम करने का आरोप जड़ दिया। 

विधायक सतपाल सिंह रायजादा ने आरोप लगाया कि जिला प्रशासन सत्ता पक्ष के इशारों पर काम करते हुए महामारी के इस काल में भी ओछे हथकंडे अपना रहा है। महामारी के इस दौर में सेवा भाव को भी राजनीतिक नजरिए से देखा जा रहा है। जब कई दिनों से बीजेपी और उसके अन्य मोर्चो के कार्यकर्ता जगह-जगह सैनिटाइजेशन कर रहे हैं तो युवा कांग्रेस कार्यकर्ताओं के सैनिटाइजेशन करने पर प्रशासन को आपत्ति क्यों है? 

दरअसल एसडीएम ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं को बिना परमिशन सैनिटाइजेशन करने से रोका और उन्हें भीड़ जुटाने पर मामला दर्ज करने की भी चेतावनी दे डाली। इसी पर उग्र हुए कांग्रेसी विधायक सतपाल सिंह रायजादा ने कहा कि जो बीजेपी कार्यकर्ता सैनिटाइजेशन कर रहे हैं तो प्रशासन उनके खिलाफ कोई कार्रवाई क्यों नहीं कर रहा। विधायक रायजादा ने कहा कि प्रशासन का यह रवैया किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। यदि प्रशासन को केस दर्ज करने का इतना ही शौक है तो सबसे पहला केस उनके खिलाफ दर्ज किया जाए। कांग्रेस के कार्यकर्ता सैनिटाइजेशन कर रहे हैं और महामारी से लोगों को बचाने के लिए सैनिटाइजेशन करना कोई जुर्म नहीं है।

error: Content is protected !!