पीजीआई अस्पताल ऊना के निर्माण कार्य की बाधा दूर कर ली गई है। यह जानकारी देते हुए उपायुक्त ऊना राघव शर्मा ने आज कहा है कि पीजीआई अस्पताल के निर्माण के लिए एचआईटीईएस कंपनी को कंस्लटेंट नियुक्त किया गया है, जिससे अब निर्माण कार्य तेज गति से किया जा सकता है।

परियोजना के डिजाइन, निर्माण, फर्नीचर, आईटी नेटवर्क के निर्माण का जिम्मा कंपनी का होगा। कंपनी को निर्माण कार्य पूरा करने के लिए 51 माह का समय दिया गया है, जिसमें 39 माह निर्माण का पूर्ण करने तथा 12 माह का समय निर्माण कार्य में कमियों को दूर करने के लिए दिया गया है।
राघव शर्मा ने कहा कि राज्य व केन्द्र सरकार के संयुक्त सहयोग से निर्माणाधीन पीजीआई सैटेलाइट सेंटर चिकित्सीय सेवाओं की दृष्टि से ऊना जिला के लिए एक महत्वपूर्ण प्रोजैक्ट है। जिला प्रशासन ऊना पीजीआई चंडीगढ़ के प्रबंधन के साथ लगातार संपर्क में है तथा लगातार समन्वय स्थापित कर पीजीआई अस्पताल के निर्माण के लिए प्रयासरत है।

जिलाधीश ने कहा कि जल शक्ति विभाग द्वारा पीजीआई अस्पताल ऊना के लिए 10 लाख लीटर प्रति दिन की जलापूर्ति सुनिश्चित करने के लिए 48 लाख रूपये की राशि व्यय करके तीन टयूबवैल स्थापित कर दिए गए हैं, जबकि इन्हें संचालित करने के लिए विद्युत आपूर्ति हेतु विद्युत विभाग का लगभग 60 लाख रूपए का व्यय आकलन प्राप्त हो चुका है। इसके अलावा अन्य सुविधाओं के निर्माण के लिए व्यय आकलन भी तैयार कर दिये गये हैं। राघव शर्मा ने कहा कि परियोजना के लिए विद्युत लाइन बिछाने के लिए विभाग को शीघ्र कार्यवाही करने के निर्देश दिए गए हैं। जबकि विद्युत सब-स्टेशन का निर्माण पीजीआई द्वारा किया जा रहा है।

राघव शर्मा ने कहा कि पीजीआई अस्पताल ऊना के लिए संपर्क सड़क के निर्माण का कार्य प्रगति पर है। ऊना बसोली एनएच 2 से पीजीआई सैटेलाइट सेंटर के गेट तक 24 मीटर चौड़ी सम्पर्क सड़क का निर्माण मई, 2021 तक पूर्ण कर लिया जाएगा, जिसके लिए समुचित धनराशि जारी कर दी गई है।

error: Content is protected !!