उत्तराखंड पुलिस का दावा, एक हजार करोड़ का हो सकता है साइबर फ्रॉड, एप से बनाते थे लोगों को शिकार

उत्तराखंड पुलिस ने मंगलवार को एप के जरिए करोड़ों की ठगी का खुलासा किया. एसटीएफ की एक टीम ने नोएडा के सेक्टर 99 से मुख्य आरोपी को गिरफ्तार किया था. इस बड़ी ठगी के खुलासे के बाद देश के तमाम राज्य एक्टिव हो चुके हैं. बेंगलुरु से लेकर दिल्ली तक इस पूरे मामले में अपनी-अपनी कार्यवाही करने में जुट गए हैं. उधर, उत्तराखंड डीजीपी अशोक कुमार ने बड़ा दावा किया है.

उन्होंने कहा कि ये घोटाला 500 से 1000 करोड़ तक का हो सकता है. उन्होंने कहा कि चाइनीज लोगों से संगठित यह गैंग पूरे देश में काम कर रहा है. जिसका भंडाफोड़ सबसे पहले उत्तराखंड एसटीएफ की ओर से किया गया है. लिहाजा अभी उत्तराखंड पुलिस ने ढाई सौ करोड़ रुपए के स्कैम का पर्दाफाश किया है, लेकिन यह घोटाला 1000 करोड़ तक का हो सकता है. उन्होंने कहा कि देश के 10 लाख लोगों का पैसा पावर बैंक एप के माध्यम से लगाया गया है.

बता दें कि पावर बैंक एप के जरिए 15 दिन में लोगों के पैसे डबल करने का झांसा दिया जाता था. कुछ लोगों को लाभ भी हुआ, लेकिन जैसे-जैसे ऑनलाइन संख्या बढ़ती गई वैसे फ्रॉड करने का तरीका चरम सीमा पर पहुंचता गया.

उत्तराखंड में दर्ज हुई थी शिकायत
रोहित कुमार नाम का शख्स साइबर ठगों के झांसे में आ गया था. ठगों ने रोहित से 91,200 रुपये हड़प लिए और पैसे डबल नहीं हुए, जिसके बाद रोहित ने उत्तराखंड STF में इस मामले को लेकर शिकायत दर्ज करवा दी. उत्तराखंड एसटीएफ ने शिकायत मिलने के बाद कार्रवाई करते हुए मुख्य अभियुक्त पवन पांडेय को नोएडा के सेक्टर 99 से गिरफ्तार कर लिया.


Please Share this news:
error: Content is protected !!