हिमाचल में बढ़ाया गया मालगाड़ियों का किराया, सिरमौर और मंडी में जारी हुई नही दरें

हिमाचल प्रदेश में मालवाहकों वाहनों का भाड़ा एक बार फिर बढ़ गया है। डीजल के दामों में बढ़ोतरी इसकी बड़ी वजह है। सिरमौर जिले के औद्योगिक क्षेत्र पांवटा साहिब की ट्रक यूनियन और मंडी ट्रक यूनियन ने मालभाड़े में वृद्धि की घोषणा कर दी है। दोनों ही यूनियन अब बढ़ी दरों पर काम करेंगी। सिरमौर ट्रक ऑपरेटर यूनियन यूनियन पांवटा ने दो रुपये प्रति किलोमीटर मालभाड़ा बढ़ाया है। मालभाड़े की बढ़ी हुई दरें लागू कर दी गई हैं।

हिमाचल चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्रीज पांवटा इकाई के अध्यक्ष सतीश गोयल और सिरमौर ट्रक ऑपरेटर यूनियन पांवटा के प्रधान राजेंद्र सिंह नारंग और उपाध्यक्ष बलविंदर सिंह ने कहा कि आपसी सहमति से मालभाड़े में वृद्धि की गई है।

उन्होंने दावा किया कि पूर्व निर्धारित तय मानकों और नियमों के तहत औसतन मालभाड़ा बढ़ाया गया है। आपसी सहमति से दो रुपये प्रति किलोमीटर किराया बढ़ाया गया है। डीजल में दामों में लगातार वृद्धि इसकी बड़ी वजह है।

सिरमौर जिले की सबसे बड़ी ट्रक यूनियन पांवटा में 1250 से भी अधिक छोटे-बड़े ट्रक हैं। यूनियन हरियाणा, पंजाब, चंडीगढ़, उत्तराखंड, दिल्ली, हैदराबाद, बंगलूरू , जयपुर कोटा और उदयपुर क्षेत्रों के लिए सेवा प्रदान करती है। दूसरी ओर, डीजल की दरें बढ़ने के साथ ही ट्रक यूनियन मंडी ने भी मालभाड़े में बढ़ोतरी कर दी है। दस फीसदी तक भाड़ा बढ़ाया गया है। औसतन ट्रक किराए में प्रति ट्रिप तीन हजार तक की बढ़ोतरी की गई है। ट्रक यूनियन के अनुसार डीजल की कीमतें बढ़ने के साथ नियमानुसार किराया बढ़ाया जाता है।


error: Content is protected !!