हिमाचल की राजधानी शिमला में गाड़ियों की बैटरी, स्टेपनी और म्यूज़िक सिस्टम ले उड़े चोर

शिमला में बैटरी चोर गिरोह सक्रिय है। शातिर चोर कोरोना बंदिशों का लाभ उठा कर निजी बसों की बैटरियां चुरा कर ले गए हैं। शातिर चोर बैटरियों के साथ-साथ टायर, स्टपनी व म्यूजिक सिस्टम पर हाथ साफ कर गए है। वहीं शातिर चोर बसों की डीजल टैकियां खाली कर गए है। जिससे आपरेटरों को दोहरी मार झेलनी पड़ी है। शिमला निजी बस आपरेटर यूनियन के प्रधान कमल ठाकुर ने कहा कि शिमला में कोरोना बंदिशों के दौरान करीब 40 से 50 बसों की बैटरियां शातिर चुरा कर ले गए है। शातिर चोर बैटरियों के साथ-साथ बसों के टायर, स्टपनी और बसों में लगा म्यूजिक सिस्टम भी चुरा कर ले गए है। उन्होंने कहा कि इसकी शिकायत पुलिस से की जाएगी।

कोरोना बंदिशों के चलते पहले से ही काफी समय तक निजी बसें सड़कों पर खड़ी रही है। बसों के खड़े रहने से आपरेटरों को एक माह में लाखों की चपत लगी है। उसके ऊपर बसों के स्पेयर पार्ट सहित बैटरियां व टायर चोरी होने से आपरेटरों को लाखों की चपत लगी है। शिमला में 104 निजी बसों का संचालन किया जाता है।

बुधवार को प्रदेश के साथ-साथ शिमला में भी बसों का संचालन शुरू हो गया है। मगर शिमला में काफी कम संख्या में बसों का संचालन हुआ है। प्रदेश निजी बस आपरेटर यूनियन के पदाधिकारियों के मुताबिक शिमला में केवल मात्र 25 बसों का संचालन ही हुआ है। मगर शिमला निजी बस आपरेटर यूनियन के पदााधिकारियों की मानें तो शिमला में 40 के करीब बसों का संचालन हुआ है। निजी बस आपरेटरों की माने तो शिमला में सचालित हो रही बसों में ऑक्यूपेंसी नाम मात्र है। यह भी एक कारण बताया जा रहा है कि शिमला में बसों का संचालन कम संख्या में हो रहा है। शिमला में बंदिशों में ढील मिलते ही लोग लापरवाही बरतने लगे है। एसपी शिमला मोहित चावला ने कहा कि उनके पास अभी तक इस तरह की कोई शिकायत नहीं आई है। शिकायत मिलने पर कारवाई अमल में लाई जाएगी। 

error: Content is protected !!