बीरता खूनी संघर्ष में मारे गए राकेश होगा अंतिम संस्कार, आक्रोश के चलते हो सकता है प्रोटेस्ट

उपमंडल कांगड़ा के तहत बीरता में जमीनी विवाद को लेकर हुए खूनी संघर्ष में दो लोगों की मौत के बाद माहौल तनावपूर्ण है। युवा राकेश कुमार की मृत्यु के बाद उसके स्‍वजनों व ग्रामिणों में रोष बढ़ गया है। पीजीआइ में सुभाष की मौत के बाद राकेश कुमार की भी मौत हो गई। रात को शव बीरता पहुंचा है और राकेश की अंत्येष्टि आज की जा रही है। अंतिम संस्कार को लेकर कांगड़ा के बीरता में स्थिति काफी तनावपूर्ण है। ऐसे में प्रशासन ने भी मामले की गंभीरता को देखते हुए अतिरिक्त सुरक्षा बल तैनात कर दिया है। ग्रामीण आरोपितों को फांसी की सजा दिए जाने की मांग कर रहे हैं। गुस्साए स्वजन व ग्रामीण इसी मांग को लेकर फिर रोष प्रदर्शन के लिए सड़कों पर उतर सकते है, जिसकी संभावना बनती नजर आ रही है।

हेड कांस्टेबल लाइन हाजिर

इस मामले में एक हेड कांस्टेबल पर जिला कांगड़ा पुलिस ने लाइन हाजिर कर दिया है। मामले की पुष्टि करते हुए पुलिस उप अधीक्षक कांगड़ा सुनील राणा ने बताया प्रारंभिक जांच में हेड कांस्टेबल की लापरवाही सामने आई है। जिसे लाइन हाजिर कर दिया गया है। 18 जून को ही खूनी संघर्ष होने के बाद ग्रामीणों द्वारा किए गए चक्का जाम के पुलिस अधीक्षक कांगड़ा विमुक्त रंजन ने ग्रामीणों से वादा किया था कि वो तुरंत मामले की जांच कर लापरवाही करने वाले पुलिस अधिकारियों पर कार्रवाई करेंगे। जिसके तहत जिला कांगड़ा पुलिस ने कार्रवाई की है। पुलिस की कार्रवाई का मृतक के स्‍वजनों व ग्रामीणों पर कितना असर होता है यह तो आज ही पता चलेगा। हालांकि स्थिति तनावपूर्ण देखते हुए अतिरिक्त सुरक्षा जवान लगाए गए हैं।

Get news delivered directly to your inbox.

Join 1,137 other subscribers

error: Content is protected !!