कोरोना संक्रमण की बदतर स्थिति के लिए मोदी सरकार की सत्ता की भूख जिम्मेदारः राजेंद्र राणा

हमीरपुर : सुजानपुर के विधायक व प्रदेश कांग्रेस कमेटी के उपाध्यक्ष राजेंद्र राणा ने देश में कोरोना संक्रमण की वजह से स्वास्थ्य व्यवस्थाओं का जनाजा निकल जाने और लगातार बेकाबू होते संक्रमण के लिए मोदी सरकार की सत्ता की भूख को जिम्मेदार ठहराया है। आज यहां जारी एक बयान में राजेंद्र राणा ने कहा कि दुनिया के सभी बड़े देश जब कोरोना वायरस की दूसरी लहर की आशंका के बीच अपने अपने देश में स्वास्थ्य ढांचे को मजबूत करने में जुटे थे, तब मोदी सरकार “नमस्ते ट्रंप“ कार्यक्रम आयोजित करने में लगी थी और उसके बाद चुनावों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह सहित बाकी के नेता हजारों की भीड़ इकट्ठी करके कोरोना संक्रमण के फैलाव के लिए जिम्मेदार बने रहे। उन्होंने कहा देश का राजनीतिक नेतृत्व मुसीबत की घड़ी में जनता का मार्गदर्शन करने के लिए होता है ना कि सत्ता की भूख मिटाने के लिए देशवासियों की जिंदगी खतरे में डालने के लिए होता है। राणा ने कहा कि पश्चिमी बंगाल विधानसभा नतीजों के बाद हिंसा की घटनाएं होना दुर्भाग्यपूर्ण है, जिसकी निंदा की जानी चाहिए लेकिन हार की झेंप मिटाने के लिए इन घटनाओं की आड़ लेकर पूरे देश में धरने प्रदर्शन करने की जो भाजपा ने घोषणा की है, उससे कोरोना संक्रमण की इस घड़ी के बीच देशवासियों के लिए आफत और बढ़ेगी और हजारों जिंदगी खतरे की जद में आएंगी। उन्होंने कहा भाजपा का यह फैसला खिसियानी बिल्ली खंबा नोचे जैसा है। उन्होंने कहा ऐसा लगता है कोरोना संक्रमण की वजह से दम तोड़ रहे लोगों को ऑक्सीजन व अस्पतालों में बेड मुहैया करवाना, महंगाई को कंट्रोल करना व बेरोजगार युवाओं को रोजगार देना जैसे मुद्दे मोदी सरकार के एजेंडे में शामिल ही नहीं है बल्कि सिर्फ और सिर्फ सत्ता की भूख शामिल है । इसके लिए देश कभी भी उन्हें माफ नहीं करेगा। उन्होंने कहा आज भारत के नेतृत्व की सोच और क्रियाकलाप पर पूरी दुनिया हंस रही है, लेकिन जनता का ध्यान अपनी असफलताओं से हटाने के लिए भाजपा का एकमात्र एजेंडा अब धरना प्रदर्शन रह गया है।

error: Content is protected !!