मंदिर खुलने पर ही आएगी दुकानदारों के चहरों पर रौनक, कर रहे ग्राहकों का इंतजार

धार्मिक नगरी ज्वालामुखी में मंदिर खुलने पर ही मंदिर मार्ग के दुकानदारों के चेहरों पर रौनक लौटेगी। हालांकि सुबह नौ बजे से दोपहर दो बजे तक दुकानें तो खुल रही हैं, लेकिन मुख्य मंदिर मार्ग के लगभग डेढ़ सौ दुकानदार आज भी दुकानें खुली रखकर ग्राहकों के इंतजार कर रहे हैं क्योंकि मंदिर बंद होने की वजह से उनके पास कोई भी ग्राहक नहीं आ रहा है। जिससे पिछले लंबे समय से कर्फ्यू की मार झेल रहे इन दुकानदारों की हालत दिन-प्रतिदिन खराब होती जा रही है।

दुकानदारों के मुताबिक जब तक मंदिर नहीं खुल जाते तब तक उनकी रोजी-रोटी बहाल नहीं हो सकती है। रोजमर्रा की चीजें तो बस अड्डे और आसपास के क्षेत्रों में लोगों को मिल जाती है, लेकिन मुख्य मंदिर मार्ग पर प्रसाद और मनियारी, गिफ्ट आदि की दुकानें तभी चलेगी जब बाहर से आने वाले श्रद्धालु यहां पर माता के दरबार में परिवार सहित माथा टेकने के लिए आएंगे।

क्या कहते हैं दुकानदार

विपिन सूद, सुरेश कुमार, रितेश शर्मा, मुनीष कुमार ने कहा कि मंदिर जब तक नहीं खुलेंगे तब तक हमारी दुकानदारी नहीं चल पाएगी। इसलिए सरकार जल्दी ही मंदिरों को खोलें, ताकि मुख्य मंदिर मार्ग के दुकानदारों की रोजी-रोटी बहाल हो सके। प्रसाद की दुकान है और यात्री आएंगे तभी वह प्रसाद खरीद पाएंगे। इसलिए सरकार और प्रशासन शीघ्र ही मंदिरों को खोलने की व्यवस्था करें क्योंकि पूरे देश में कोरोना वायरस पर अब नियंत्रण होता जा रहा है और अनलॉक की प्रक्रिया हर जगह शुरू हो चुकी है।

प्रसाद की दुकान है और क्योंकि पूरे देश में धीरे-धीरे मंदिरों को खोलने की अनुमति मिल रही है इसलिए सरकार हिमाचल के मंदिरों को भी खोलने की अनुमति प्रदान करे। शारीरिक दूरी में दर्शन करवाए जाएं, जिससे यात्री यहां आना शुरू होंगे और दुकानदारों को भी इससे थोड़ी बहुत राहत मिलना शुरू होगी। फोटोग्राफी की दुकानदारी है, लेकिन मुख्य मंदिर मार्ग पर होने की वजह से अकसर बंद रहती है क्योंकि यहां पर यात्रियों का आना-जाना लगभग बंद है। जब मंदिर खुलेंगे तभी काम शुरू हो पाएगा।

यह बोले ज्वालामुखी मंदिर के एसडीएम

ज्वालामुखी के एसडीएम मनोज ठाकुर ने कहा कि मंदिर न्यास ज्वालामुखी प्रदेश सरकार के दिशा निर्देशों का इंतजार कर रहा है। जैसे ही गाइडलाइंस सरकार से मिलेगी वैसे ही मंदिरों को खोलने की प्रक्रिया अमल में लाई जाएगी। सरकार से एसओपी जारी होगी उसी के अनुसार यात्रियों को दर्शन करवाए जा सकेंगे।


error: Content is protected !!