प्रदेश में बढ़ें ऑक्सीजन सिलेंडर से लैस बेड

प्रदेश में स्वास्थ्य व्यवस्था को लेकर माकपा ने अपनी चिंता व्यक्त की है। कोविड महामारी से निपटने के लिए और प्रदेश की स्वास्थ्य व्यवस्था को चुस्त दुरुस्त करने के लिए सीपीआईएम ने आईजीएमसी के प्रिंसीपल डा. रजनीश पठानिया को ज्ञापन देकर सुझाव दिए हैं। सीपीएम की तरफ से विधायक राकेश सिंघा और पार्टी के राज्य सचिवालय सदस्य डा.कुलदीप सिंह तंवर ने अस्पताल के प्राचार्य से कोविड मरीजों के प्रबंधन में आ रही दिक्कतों और उनकी देखभाल में होने वाली चूक और कमियों को लेकर चर्चा की। उन्होंने कहा कि सरकार को तुरंत प्रभाव से युद्धस्तर पर हस्तक्षेप करने की आवश्यकता है। माकपा ने सरकार को सुझाव दिया कि ऑक्सीजन की आपूर्ति पाइप के जरिए, सिलेंडर और कंसंट्रेटर माध्यम से सुनिश्चित की जानी चाहिए।

उन्होंने कहा कि टरशरी स्तर के अस्पतालों को 24 घंटे इसकी आवश्यकता होती है, इसलिए पाइप द्वारा ऑक्सीजन की सप्लाई को केंद्रीयकृत करते हुए इसे ऑक्सीजन निर्माताओं से जोड़ा जा सकता है, जो एक पंपिंग स्टेशन को पर्याप्त सिलेंडर की आपूर्ति करते हैं। सीपीआईएम के नेताओं ने सुझाव दिया कि कम लागत वाले ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्र स्थापित किए जाने चाहिए। ऑक्सीजन सिलेंडर से लैस बिस्तरों की संख्या बढ़ाई जाए, सुसज्जित बेड बढ़ाए जाने चाहिए। वहीं दुर्गम क्षेत्रों के लिए ऑक्सीजन कंसंट्रेटर भी एक बहुत अच्छा विकल्प है। उन्होंने जांच में तेजी लाने का सुझाव भी दिया। पार्टी ने कहा कि पूरे विश्व में ऊंची परीक्षण दर ने महामारी के प्रभाव को कम करने, संक्रमित रोगियों के परीक्षण, संक्रमित रोगियों को आइसोलेशन में डालने और उनके इलाज को सुनिश्चित किया है। उन्होंने अपने सुझावों की प्रतियां मुख्यमंत्री व मुख्य सचिव को भी भेजी हैं, जिसमें कई तरह के महत्त्वपूर्ण सुझाव दिए गए हैं।

error: Content is protected !!