हिमाचल में बारिश और तूफान से भारी नुकसान, सरकाघाट में बिजली की चपेट में आने से दो बच्चे घायल

हिमाचल प्रदेश में बीते चौबीस घंटे में बारिश और तूफान (Rain and Storm) ने लोगों को काफी परेशान किया है. सूबे में जहां मूसलाधार बारिश हुई है. वहीं, तूफान चलने से परेशानी का सामना करना पड़ा है. जगह-जगह से नुकसान की खबरे हैं. शिमला (Shimla), मंडी और चंबा में नुकसान हुआ है.


Right News India

We are Fastest growing media channel in Himachal Pradesh. We have more than 22 Lakh visitors reach every month, You can increase your business with us by advertising your products.


येलो अलर्ट (Yellow Alert) के बीच भारी बारिश, ओलावृष्टि और तूफान से कई पेड़ घरों और गाड़ियों पर गिर गए थे. मंडी, शिमला, हमीरपुर, ज्वालामुखी, रैत, पालमपुर में तेज बारिश और ओलावृष्टि (Hail Storm) हुई. प्रदेश में अगले कुछ दिन तक मौसम खराब रहेगा.

सरकाघाट में दो बच्चे घायल: सोमवार को आसमानी बिजली गिरने से सरकाघाट के गहरा के पनायाली वार्ड में गांव स्वाणी में दो बच्चे बेहोश हो गए. राहुल मसेरन से अपनी बुआ के घर आया था और वहीं, दूसरा बच्चा करण खंडाहर गांव से है. ये बच्चे दूसरे बच्चे के साथ मौके पर थे, लेकिन इस दौरान बिजली गिरने से दोनों घायल हो गए. बताया जा रहा है कि एक बच्चे को शिमला रेफर किया गया है, जबकि दूसरा सरकाघाट में ही उपचाराधीन है.

शिमला में पेड़ और ओले भी गिरे: शिमला में दोपहर को बारिश हुई और इसके बाद धूप के साथ हल्के बादल छाये रहे. इस दौरान ओले भी गिरे हैं. मैदानी बारिश होने से लोगों को गर्मी से राहत मिली है. शिमला शहर के कनलोग बाईपास पर सड़क किनारे खड़ी चार गाड़ियों पर देवदार का पेड़ गिर गया और गाड़ियों को काफी नुकसान पहुंचा.

शहर में करीब चार बजे भारी आंधी तूफान का सिलसिला शुरू हुआ जो करीब एक घंटा तक चला. बारिश से हुए नुकसान का जिला प्रशासन आंकलन कर रहा है और नगर निगम के अधिकारियों और पार्षदों से नुकसान की रिपोर्ट मांगी है. शिमला के ऊपरी क्षेत्रों में भी बारिश, तूफान के साथ ओलावृष्टि हुई है, जिससे जिला में सेब फसल के साथ गुठलीदार फलों और अन्य फसलों को भी नुकसान पहुंचा है.

चंबा में मछलियां मरी: चंबा के भरमौर में ट्राउट मछली बीज उत्पादन केंद्र थल्ला में सोमवार सुबह आठ बजे के करीब तूफान की वजह से मछली बीज केंद्र के अंदर बिजली के तार टूटने से आए कंरट की चपेट में आने से 700 मछलियां (160 किलो) मर गईं. उच्च अधिकारियों को सूचित किया गया है. पुलिस व विद्युत बोर्ड को सूचना देकर घटना स्थल का निरीक्षण भी करवाया गया है.

कैसा रहेगा मौसम: मौसम विज्ञान केंद्र शिमला ने तीन दिन अंधड़ और बारिश का येलो अलर्ट जारी किया है. मैदानी और मध्य पर्वतीय क्षेत्रों में 5 जून तक मौसम खराब रहेगा. पांच जून तक पूरे प्रदेश में बारिश और बर्फबारी के आसार हैं. 10 जून के बाद से प्रदेश में प्री-मानसून की बौछारें पड़ने के आसार हैं जबकि 25 जून को मानसून दस्तक दे सकता है.

मैदानी इलाकों में 3 से छह जून तक मौसम साफ रहेगा. 5-6 जून को ऊंचाई वाले इलाकों में भी मौसर साफ रहने के आसार हैं. केवल मध्य पर्वतीय क्षेत्रों में बारिश की संभावना है.


Please Share this news:
error: Content is protected !!