राजधानी के कई अस्पतालों में कोरोना के गंभीर मरीजों के इलाज में इस्तेमाल होने वाला रेमडेसिविर इंजेक्शन उपलब्ध नहीं है। ऐसे में संक्रमितों के परिजनों को भटकना पड़ रहा है। कुछ लोगों को दिल्ली में इसके ब्लैक में उपलब्ध होने की बात कही गयी। लगभग 1500 से 4 हजार रुपये की कीमत वाले इस इंजेक्शन को लोग बाजार में पांच से लेकर 10 हजार रुपये तक खरीदने में मजबूर हैं।

दिल्ली के एक निजी बैंक में काम करने वाले विशाल के भाई को शुक्रवार को महाराजा अग्रसेन अस्पताल में भर्ती किया गया था। हालत गंभीर होने पर डॉक्टरों ने रेमडेसिविर इंजेक्शन की छह डोज लाने के लिए कहा। इंद्रजीत ने करीब दो दिन तक कई अस्पतालों में और दवाओं की दुकानों पर संपर्क किया, लेकिन कहीं भी इन्जेक्शन नहीं मिला। उनके एक रिश्तेदार को किसी ने 10 हजार रुपये में इंजेक्शन की एक डोज देने की बात कही जबकि इसकी कीमत लगभग 2800 रुपये ही थी है। 

मरीज की जान बचाने के लिए परिवार तैयार हो गया लेकिन इंजेक्शन देने वाले ने सिर्फ दो डोज देने और बाकी डोज कल देने के लिए कहा। इसके वे बाद रोहिणी के एक निजी अस्पताल में केमिस्ट की दुकान पर गए तो उन्हें वहां 5500 रुपये में रेमडेसिविर का इंजेक्शन दिया गया। उन्होंने मरीज की जान बचाने के लिए काफी महंगी कीमत पर इंजेक्शन लिया। उन्हें इसका बिल भी नहीं दिया गया। 

error: Content is protected !!