Diwali 2021: दिवाली पर पूजन करते समय करें इन मंत्रों का जाप, भर जाएंगे धन के भंडार

जहां मां लक्ष्मी धन-वैभव प्रदान करती हैं तो वहीं कुबेर देव उस धन को स्थायित्व प्रदान करते हैं तो वहीं गणेश जी की कृपा से लक्ष्मी यानी धन को संभालने की बुद्धि प्राप्त होती है। इसी के साथ जहां गणेश जी होते हैं वहां शुभ-लाभ और रिद्ध-सिद्धि भी विराजती हैं। यही कारण है कि दिवाली के दिन धन की देवी लक्ष्मी, धन कोषाध्यक्ष भगवान कुबेर व बुद्धि के देवता भगवान गणेश का पूजन किया जाता है। लोग पूरे विधि-विधान के साथ दिवाली पूजन करते हैं ताकि उनके घर में हमेशा रूपये-पैसे बने रहें और किसी भी प्रकार से धन का अभाव न हो। इस बार दिवाली का त्योहार 04 नवंबर 2021 दिन गुरुवार के मनाया जाएगा। यह रात्रि किसी भी मंत्र जाप आदि के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण माना जाती है। मान्यता है कि यदि दिवाली की रात्रि कोई अनुष्ठान या जाप किया जाए तो वह अवश्य ही सिद्ध होता है। यदि आप भी मां लक्ष्मी के साथ कुबेर देव और भगवान गणेश की कृपा प्राप्त करना चाहते हैं तो दिवाली पर लक्ष्मी पूजन करते समय इन मंत्रों का जाप अवश्य करना चाहिए। तो चलिए जानते हैं कि दिवाली पर किन मंत्रों के जाप से घर में आती है सुख-समृद्धि।

दिवाली पूजन शुभ मुहूर्त-
दिवाली 2021 की  तिथि 

अमावस्या तिथि आरंभ : 04 नवंबर प्रातः  06:03 मिनट से 
अमावस्या तिथि समाप्त: 05 नवम्बर प्रातः 02:44 मिनट तक 

 लक्ष्मी पूजन मुहूर्त

सायं 06:09 मिनट से रात 08:20 मिनट तक 
पूजन अवधि : 01 घंटे 55 मिनट

दिवाली पूजन के समय सर्वप्रथम पढ़े गणेश जी का ये मंत्र
किसी भी पूजा अनुष्ठान में सर्वप्रथम भगवान गणेश का पूजन किया जाता है। भगवान गणेश शुभता व  बुद्धि प्रदान करते हैं। इनकी पूजन से आरंभ किए गए किसी भी कार्य में कोई विघ्न नहीं आता है इसलिए इन्हें विघ्नहर्ता कहा गया है। दिवाली पर पूजन करते समय भगवान गणेश का आवाहन करते समय ”वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ इस मंत्र का उच्चारण करना चाहिए। 

इसके अलावा भगवान गणेश के इस मंत्र का जाप भी करना चाहिए। इससे भगवान गणेश आपको सदबुद्धि प्रदान करते हैं और आपके जीवन के सभी विघ्न-बाधाओं को हर लेते हैं।
गणेश जी का मंत्र-ऊं एकदन्ताय विद्महे वक्रतुंडाय धीमहि तन्नो बुदि्ध प्रचोदयात।। 

दिवाली पर मां लक्ष्मी की कृपा प्राप्त करने के लिए करें इस मंत्र का जाप-
मां लक्ष्मी धन की देवी हैं। दिवाली के दिन मुख्य रूप से मां लक्ष्मी का पूजन ही किया जाता है। हर व्यक्ति चाहता है कि मां लक्ष्मी की कृपा से उनका घर धन-धान्य से परिपूर्ण हो जाए। दिवाली पर मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए आप पूजन के दौरान इन मंत्रो का जाप कर सकते हैं। लक्ष्मी जी के मंत्रो का जाप करने के लिए कमलगट्टे की माला का प्रयोग करना चाहिए। इससे वे अतिशीघ्र प्रसन्न होती हैं।
मां लक्ष्मी मंत्र- ऊं श्रीं ह्रीं श्रीं कमले कमलालये प्रसीद प्रसीद, ऊं श्रीं ह्रीं श्रीं महालक्ष्मयै नम:॥
सौभाग्य प्राप्ति मंत्र- ऊं श्रीं ल्कीं महालक्ष्मी महालक्ष्मी एह्येहि सर्व सौभाग्यं देहि मे स्वाहा।।

कुबेर देव की पूजा करते समय करें इस मंत्र का जाप-
भगवान कुबेर को देवताओं का धन कोषाध्यक्ष कहा गया है। दिवाली के दिन स्थाई संपत्ति की प्राप्ति के लिए भगवान कुबेर का पूजन किया जाता है। इनकी पूजा-अर्चना करने से घर में स्थाई रूप से धन बना रहता है। दिवाली के  दिन भगवान कुबेर की कृपा प्राप्त करने के लिए इस मंत्र का जाप करना चाहिए।
कुबेर मंत्र-ऊं यक्षाय कुबेराय वैश्रवणाय धनधान्याधिपतये धनधान्यसमृद्धिं में देहि दापय।

error: Content is protected !!