हजारों एपीएल परिवारों के सस्ते राशन में लगातार दूसरे माह भी कटौती की गई है। उपभोक्ताओं को जहां पहले छह किलो चावल मिलते थे, वही अब अप्रैल माह में केवल साढ़े पांच किलो चावल ही मिलेंगे। महंगाई के इस दौर में लगातार राशन में कटौती होने से एपीएल परिवार परेशानी में आ गए हैं।

लोगो का कहना है कि राशन में लगातार कटौती होने से उन्हें बाजारों से महंगी दरों पर राशन खरीदने को मजबूर होना पड़ रहा है। एपीएल राशनकार्ड धारकों की संख्या 30 हजार से अधिक की है। डिपो में आटा 9.30 रुपये और चावल दस रुपये प्रतिकिलो की दर से दिया जाता है।

इसके अलावा उड़द, चना, मूंग और माश में से पसंद की तीन दालें दी जाती हैं। फरवरी में एपीएल परिवारों को 13 किलो आटा दिया गया था। लेकिन मार्च से इसे भी साढ़े ग्यारह किलो कर दिया है।

error: Content is protected !!