प्रदेश सचिव रमेश राव ने राज्य सरकार व केंद्र सरकार पर हला बोलते हुए कहा कि नगर निगम के चुनाव आए तो आई धर्मशाला की याद। पिछले पांच सालों में जो धर्मशाला का चहुमुखी विकास पूर्व शहरी विकास मंत्री सुधीर शर्मा के नेतृत्व में हुआ और जिस प्रगति के पथ पर धर्मशाला चली थी। आज भाजपा के राज में मानों इन तीन सालों में विकास को नज़र सी लग गई है। धर्मशाला हिमाचल का ही नहीं पूरे देश गौरव बन गया था। छोटे-छोटे गावों को सड़कों से जोड़ना पूरे शहर में सड़कों का जाल बिछाना, पानी, सफाई, स्वस्थ्य सुविधाएँ प्रदान करना, अंडर डस्टविन लगवाना, किसानों हेतु कुल्हे बनाना, टूरिज्म के क्षेत्र में अन्तरराष्ट्रीय स्तर की योजनाओं को धर्मशाला में विकसित करवाना, रोपवे, स्मार्ट सिटी, धर्मशाला को दूसरी राजधानी का दर्जा दिलाना, टुलिफ्, पार्क, वार म्यूजियम, सेंट्रल यूनिवर्सिटी, वर्ल्ड पैराग्लाइडिंग, और न जाने कितने अनगिनत कार्य सुधीर शर्मा ने करवाएं।

रमेश रॉव ने बताया कि दुख की बात डबल इंजन सरकार अभी भी पेंडिंग पड़ें है। सरकार कार्य को पुरा नहीं करवा पाई, न ही जो काँग्रेस सरकार के समय योंजनाएं चल रही थी, वह सभी ठप्प पड़ी है। उनको सुचारु रूप से शुरू भी नहीं कर पाए, जब निगम के चुनाव आए तो प्रदेश के मुख्यमन्त्री को रोपवे दिखा, और राज्य सांसद अनुराग ठाकुर को सेंट्रल यूनिवर्सिटी की याद आई। यह सब जनता को गुमराह करने के लिए यह दिखावा किया जाने लगा।

आपको बता दें रोपवे पूर्व मंत्री सुधीर शर्मा की देन हैं। यह देश का पहला रोपवे होगा जो दिन रात चलेगा, सुधीर शर्मा इस योजना को धर्मशाला से मक्लोड गंज तक ही नहीं अपितु इसका सर्वे पुरानी चामुंडा तक ले जाने का प्रावधान था। लेकिन प्रदेश सरकार को शर्म नहीं आई। अभी तक मेलोडगंज तक का भी कार्य इन तीन सालों में पुरा नही करवा पाई। इसी तर्ज पर स्काई बस का प्रपोजल डाला था। लेकिन सरकार के बदलते ही सब ठण्डे वस्ते में डाल दिया गया। रमेश राव ने कहा कि कांगड़ा चम्बा के सांसद तो मानों ऐसे गुम हुए, की उनकी जनता के प्रति कोई जिम्मेदारी नहीं है।

देश के प्रधानमंत्री इन तीन सालों में दो बार धर्मशाला का दौरा कर गए, लेकिन धर्मशाला को क्या दिया। तीन सालों में भाजपा और उनके नुमाइंदे हाथ पर हाथ दरे बैठे रहे, न कोई धर्मशाला में विकास कार्य हुआ और न ही जनता को व कांग्रेस के टाइम वाला विकास दिखा।।

रमेश राव ने समस्त धर्मशाला की जनता से अपील है कि विकास पुरुष सुधीर शर्मा के हाथ मजबूत करने के लिए नगर निगम चुनावों में पंजाब की तरह एक तरफ़ा सर्मथन दे कर सभी वार्ड के उम्मीदवारों को विजय बनाएं। ताकि खोये हुए धर्मशाला के विकास की नींव फिर से रख सकें।।

error: Content is protected !!