राजस्थान के अलवर में किसान नेता राकेश टिकैत के काफिले पर हुए हमले के बारे में जब शनिवार को उनसे बात की गई और पूछा गया कि इस हमले के पीछे कौन है तो उन्होंने इसके लिए केंद्र सरकार को जिम्मेदार ठहराया।

राकेश टिकैत ने कहा, इसके लिए केंद्र सरकार जिम्मेदार है और कौन होगा? ये उनकी युवा ईकाई ने किया है। उनका कहना था राकेश टिकैत गो बैक। मैं कहां जाऊं? उन्होंने मेरी कार पर पत्थर फेंके और लाठी भी चलाई। वो हमसे क्यों लड़ रहे हैं, हम किसान हैं, न कि राजनीतिक पार्टी।

राकेश टिकैत पर हमले के विरोध में किसानों ने शुक्रवार को लगाया जाम
राजस्थान के अलवर में किसान नेता राकेश टिकैत के काफिले पर हुए हमले को लेकर किसानों का गुस्सा फूट पड़ा। इसके विरोध में भारतीय किसान यूनियन के बैनर तले पहुंचे किसानों ने शुक्रवार की शाम जेवर रोड पर जाम कर दिया। उन्होंने केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी करते हुए प्रदर्शन किया। संगठन के पदाधिकारियों के निर्देश पर करीब एक घंटे बाद किसानों ने जाम खोला। तब कहीं जाकर रोड पर वाहनों का आवागमन शुरू हो गया।

कृषि कानूनों के विरोध में भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता देश के अलग-अलग हिस्सों में पहुंचकर पंचायत कर रहे हैं। शुक्रवार को राजस्थान के अलवर में उनके काफिले पर हमला हो गया था। इसे लेकर किसानों में रोष फैल गया।

राकेश टिकैत पर हुए हमले के विरोध में भाकियू के जिलाध्यक्ष अनिल उर्फ बब्बन प्रधान के नेतृत्व में काफी संख्या में किसान शाम करीब 6.30 बजे जेवर मार्ग पर गांव कलंदरगढ़ी के पास पहुंच गए, जहां पर किसानों ने नारेबाजी करते हुए रोड पर जाम लगा दिया। जिलाध्यक्ष ने कहा कि कृषि कानून को लेकर काफी समय से आंदोलन चल रहा है।

राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत देश के विभिन्न राज्यों में जाकर किसानों को एकजुट करते हुए संघर्ष कर रहे हैं। ऐसे समय पर उनके ऊपर हमला किया गया, जिसकी वह निंदा करते हैं। कृषि कानून के विरोध में आंदोलन कर रहे किसानों की आवाज को दबाने का प्रयास किया जा रहा है। 

error: Content is protected !!