रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह आज तेजस डील पर एचएएल के साथ करेंगे हस्ताक्षर

स्वदेशी लड़ाकू एयरक्राफ्ट तेजस की डील पर आज अंतिम मुहर लग जाएगी। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और एचएएल इस डील पर औपचारिक हस्ताक्षर करेंगे। अधिकारियों ने मंगलवार को कहा कि सरकार 3 फरवरी को 48,000 करोड़ रुपये के समझौते पर मोहर लगा रही है, जिसमें भारतीय वायु सेना के लिए प्रमुख एयरोस्पेस प्रमुख हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड से 83 तेजस हल्के लड़ाकू विमान खरीदने का सौदा किया गया है। उन्होंने कहा कि मेगा कॉन्ट्रैक्ट पर बेंगलुरु के एयरो इंडिया एयर शो में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, भारतीय वायुसेना के शीर्ष अधिकारियों और हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) के वरिष्ठ अधिकारियों की मौजूदगी में हस्ताक्षर किए जाएंगे।

तेजस सिंगल इंजन लाइट कॉन्बैक्ट एयरक्राफ्ट है। यह किसी भी मौसम में उड़ने और हमला करने में सक्षम है। तेजस को 4.5 पीढ़ी का बताया जाता है। बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में सुरक्षा पर मंत्रिमंडलीय समिति (सीसीएस) ने 13 जनवरी को इस सौदे को मंजूरी दी थी। इसके तहत भारतीय वायु सेना की लड़ाकू क्षमता बढ़ाने के लिए एचएएल से 73 तेजस एमके-1ए विमान और 10 एलसीए तेजस एमके-1 प्रशिक्षक विमान खरीदे जाएंगे।

एचएएल के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक आर माधवन ने हाल ही में कहा था कि 48,000 करोड़ रुपये के सौदे के तहत तेजस एलसीए की भारतीय वायु सेना को आपूर्ति मार्च 2024 से शुरू होगी और 83 लड़ाकू विमानों की आपूर्ति पूरी होने तक हर साल करीब 16 विमानों को शामिल किया जाएगा।

माधवन ने यह भी कहा था कि अनेक देशों ने तेजस खरीदने में रुचि दिखाई है और निर्यात के लिए पहला ऑर्डर अगले कुछ साल में आ सकता है। एचएएल प्रमुख ने  बताया कि तेजस एमके-आईए विजुअल रेंज मिसाइल, इलेक्ट्रॉनिक वारफेयर सूट और एयर-टू-एयर रीफ्यूलिंग सिस्टम से परे एक सक्रिय इलेक्ट्रॉनिक रूप से स्कैन किए गए एरे रडार से लैस होगा।

SHARE THE NEWS:
error: Content is protected !!