Right News

We Know, You Deserve the Truth…

अप्रैल में 10.49% रही वस्तुओं की थोक महंगाई दर, महंगे पेट्रोल-डीजल की वजह से बढ़ रही कीमत

कोरोना के बीच बढ़ती महंगाई लोगों का दम निकाल रही है। पिछले महीने यानी अप्रैल में थोक महंगाई दर का सूचक यानी होलसेल प्राइस इंडेक्स (WPI) 10.49% रहा है। जबकि मार्च में यह 7.39% था। वाणिज्य मंत्रालय मंत्रालय के ताजा डाटा के मुताबिक, एक महीने में WPI में 3.1% की बढ़ोतरी हुई है। मंत्रालय के बयान में कहा गया है कि महंगे क्रूड पेट्रोलियम और मिनरल ऑयल्स यानी पेट्रोल-डीजल के कारण वस्तुओं की थोक कीमतों में बढ़ोतरी हो रही है।

दो महीने में 5.66% बढ़ी थोक महंगाई दर

मंत्रालय ने फरवरी महीने के थोक महंगाई दर के वास्तविक आंकड़े भी जारी कर दिए हैं। मंत्रालय के मुताबिक, फरवरी में वास्तविक महंगाई दर 4.83% थी। मार्च में यह 2.56% बढ़कर 7.39% पर पहुंच गई थी। फरवरी के मुकाबले अप्रैल में थोक महंगाई दर 5.66% बढ़कर 10.49% पर पहुंच गई है। हालांकि, मार्च और अप्रैल के आंकड़े प्रॉविजनल हैं। इन दोनों महीनों में थोक महंगाई दर के वास्तविक आंकड़े बाद में जारी किए जाएंगे।

दाल और फलों ने बिगाड़ा बजट

मंत्रालय के डाटा के मुताबिक, फूड आर्टिकल्स में अप्रैल महीने में दाल, फल और अंडा-मीट की थोक महंगाई दर बढ़ी है। दालों की महंगाई दर 10.74%, फलों की महंगाई दर 27.43%, दूध की महंगाई दर 2.04% और अंडा-मीट-मछली की महंगाई दर 10.88% रही है। नॉन-फूड आर्टिकल्स में ऑयल सीड्स की महंगाई दर 29.95%, मिनरल्स की महंगाई दर 19.60% और क्रूड पेट्रोलियम एंड नेचुरल गैस की महंगाई दर 79.56% रही है। फ्यूल एंड पावर सेगमेंट में एलपीजी की महंगाई दर 20.34%, पेट्रोल की महंगाई दर 42.37% और हाई स्पीड डीजल की महंगाई दर 33.82% रही है।

इन वस्तुओं की थोक महंगाई घटी

अप्रैल 2021 में फूड आर्टिकल्स में अनाज की महंगाई दर -3.32%, धान की महंगाई दर -0.92%, गेहूं की महंगाई दर -3.29%, सब्जियों की महंगाई दर -9.03%, आलू की महंगाई दर -30.44%, प्याज की महंगाई दर -19.72% रही है। नॉन-फूड आर्टिकल्स और फ्यूल एंड पावर सेगमेंट में सभी वस्तुओं की थोक महंगाई दर में बढ़ोतरी ही रही है।

error: Content is protected !!