केंद्र सरकार के हाथों की कठपुतली है जयराम सरकार: गंगूराम मुसाफिर

0
31

राजगढ़। हिमाचल प्रदेश की जयराम सरकार प्रदेश की जनता की आशाओं और आकांक्षाओं के अनुरूप खरा नहीं उतरी है। लोगों को भाजपा से बड़ी उम्मीदें थी और सब्जबाग भी काफी दिखाए गए थे।

चुनाव के दौरान और उपचुनाव के दौरान लोगों को लग रहा था कि पच्छाद का जो विकास है, वह अलग होगा और विकास के मामले में पच्छाद सबसे आगे होगा। मगर 5 साल के बाद इस मौजूदा सरकार से पच्छाद की जनता अपने आप को ठगा सा महसूस कर रही है। यह बात पूर्व विधानसभा अध्यक्ष जीआर मुसाफिर ने जारी बयान में कही। उन्होंने कहा कि भाजपा ने जनता से बड़े-बड़े वायदे ओर बड़ी-बड़ी घोषणाएं की थी। वह सब जुमले में तब्दील हो गई है।

सराहां से चंडीगढ़ सड़क, पुलवाहल स्नोरा सोलन, राजगढ़ से नाहन सड़क को नेशनल हाईवे बनाने की घोषणा हुई उससे कुछ सुधार होगा, लेकिन यह भी जुमला ही निकला। जहां उम्मीद थी कि सराज की तरह से पच्छाद का विकास होगा। मगर यहां के जो हेलीपैड हैं उनका निर्माण कार्य आज भी पैसे की वजह से धूल फांक रहे हैं और उनकी हालत भी दयनीय ही है।इसके अलावा सड़को के हालात बहुत खराब है, इसमें आवाजाही करना बहुत कठिन हो गया है। सड़कें गड्ढों में तब्दील हो गई है। शुक्रवार को मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर पच्छाद के पझोता क्षेत्र में आए थे।

वहा उन्होंने बहुत सारी घोषणाएं की और कुछ शिलान्यास भी किए। परंतु जो भी शिलान्यास किये उन सभी के लिये ज़िलाधीश सिरमौर को रिपोर्ट बनाने को कहा गया है, अब चुनाव नजदीक है तो यह घोषणाएं कब पूरी होगी कोई पता नहीं। अब जब हाईकोर्ट से नारग कॉलेज खोलने के आदेश जारी हुए हैं, तो सरकार ने लोगों को छलने के लिए इसकी घोषणा कर दी। जिला सिरमौर कांग्रेस के अंतरिम अध्यक्ष गंगूराम मुसाफिर ने कहा कि एक साल पहले भी जब मुख्यमंत्री सराहां आए थे।

उन्होंने लगभग 300 करोड की घोषणा की थी जिसमें की 10 प्रतिशत योजनाएं भी सिरे नहीं चढ़ी है। केवल जुमलो तक ही सारी घोषणाएं सीमित हो गई हैं। वहीं प्रदेश में जो भर्तियां हो रही है, उसमें घोटाले हो रहे हैं। जैसे पुलिस का जो पेपर लीक हुआ था, उसमें बहुत बड़ा घोटाला हुआ है और उसमें कोई जाँच नहीं की गई है। हिमाचल प्रदेश में हुआ फर्जी डिग्रियों का मामला है, लाखों के हिसाब से फर्जी डिग्रियां बांटी गई हैं और करोड़ों का घोटाला हुआ है जिससे प्रदेश शर्मसार हुआ है।

परंतु उसमे भी कोई जांच नही हुई। यहां चोरी डकैती लूटपा के मामलों में वृद्धि हुई है जिससे लगता है कि इस सरकार का कानून व्यवस्था पर कोई नियंत्रण नहीं है मुख्यमंत्री की पकड़ प्रशासन पर नही है वह दिल्ली के चक्कर लगाते रहते है ओर केंद्र सरकार की कठपुतली बनकर रह गए हैं।

Leave a Reply