पंजाब में हर बीतते दिन के साथ कोरोना का प्रकोप बढ़ता ही जा रहा है। हर रोज हजारों नए संक्रमित सामने आ रहे हैं। रोज सैंकड़ो लोग इस महामारी के कारण मौत के मुंह में जा रहे है। प्रशासन के तमाम इंतजामों के बाद भी राज्य में कोरोना के मामले थमने का नाम नहीं ले रहे है। जिसे देखते हुए राज्य में नाईट कर्फ्यू व वीकेंड लॉकडाउन जैसे प्रतिबंध लगा दिए गए है।इन प्रतिबंधों व राज्य में कोरोना की भयावह स्थिती को देखते हुए पंजाब में रह रहे प्रवासी मजदूरों में संपूर्ण लॉकडाउन लगने की आशंका बढ़ गई है। जिसके कारण बड़ी संख्या में प्रवासी मजदूर अपने-अपने गृह राज्य को जाने लगे है। पिछले साल कोरोना की पहली लहर के कारण सरकार द्वारा लगाए गए लॉकडाउन के दौरान उत्पन्न हुई भुखमरी जैसी अवस्था को याद करके ये लोग वापस अपने घरों को लौटने में ही भलाई समझ रहे हैं।गौरतलब है कि पंजाब में लगातार नाईट कर्फ्यू के समय का दायरा बढ़ाना व वीकेंड लॉकडाउन के कारण इन मजदूरों को काफी मुुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। बिहार और यूपी जैसे राज्यों से आए ज्यादातर प्रवासी मजदूर दुकानें लगाकर या रेहड़ी पर अपना धंधा करते है। उनके कारोबार शाम को या वीकेंड पर ही ज्यादा चलते है। लेकिन कोरोना के प्रतिबंधों के कारण आजकल उनका कारोबार ठप्प पड़ गया है जिसके कारण बड़ी संख्या में इनका पलायन शुरू हो चुका है।

error: Content is protected !!