हिमाचल प्रदेश में नया शिक्षा सत्र शुरू होने के उपरांत निजी स्कूलों के द्वारा अत्यधिक बढे हुए दर से फीस लेने का सिलसिला आरम्भ हो चुका है। पिछले दो-चार दिनों से शिमला के प्रतिष्ठित स्कूलों ने भी स्कूल में पढ़ने वाले विद्यार्थियों के अभिभाकों को मैसेज और व्हाट्सएप्प भेजकर बढे हुए दर से फीस जमा करने को कहा जा रहा है। यह निजी स्कूल, यह सब शिक्षा निदेशालय के पूर्व के दिशा निर्देशों एवं अभी चंद दिनों पूर्व ही शिक्षा निदेशालय द्वारा सोशल मीडिया के माध्यम से जारी किए गए जानकारी के उपरांत भी धड़ल्ले जबरदस्त तरीके से बढ़ाई हुई दर से फीस की वसूली कर रहे हैं।

इस सम्बन्ध में हिमाचल प्रदेश अभिभावक संघ ने पहले भी आगाह किया था कि यह निजी स्कूलों के मालिक बिना पीटीए के परामर्श के फीस में कोई भी बढ़ोतरी ना करें। यदि किसी निजी स्कुल में पीटीए नहीं बना है तो नए सिरे से पीटीए बना कर ही कोई फैसला लें। अभिभावक मंच ने कहा कि सबको विदित है कि हर वर्ष बहुत सारे छात्र अपनी-अपनी शिक्षा पूर्ण करके स्कूल से निकल जाते हैं। उसी भांति उनके अभिभावक भी बच्चों के स्कूल से निकलने के बाद पीटीए पद से स्वतः ही बाहर हो जाते हैं और उनका कोई हित भी नहीं रह जाता है।

इस तरह इन निजी स्कूलों के मालिकों के द्वारा एक तरफ़ा फीस में बढ़ोतरी करना ना केवल शिक्षा निदेशालय के आदेशों का खुलमखुल्ला उलंघन है। बल्कि एक लोकप्रिय सरकार को भी चुनौती दे रहे हैं। उपरोक्त विवरण को मध्यनज़र रखते हुए हिमाचल प्रदेश अभिभावक संघ शिमला के संज्ञान में समाचार पत्रों एवं सोशल मीडिया के माध्यम से आने के उपरांत शिमला कार्यकारिणी के सदस्य क्रमशः पवन मेहता- मीडिया प्रभारी, आचार्य सी एल शर्मा-सचिव, हरी शंकर तिवारी-सलाहकार, डॉक्टर संजय-मुख्य संरक्षक, कुलदीप सिंह -कोषध्यक्ष, जीतेन्द्र यादव-उपाध्यक्ष, कुसुम शर्मा, हमिंदर धौटा, रीता चौहान, प्रतिभा, सुरेश वर्मा, हेमा राठौर, ज्ञान चन्द, अम्बिर सहजटा, प्रियंका तंवर, रमेश कुमार ठाकुर एवं कर्यकारिणी के अन्य सदस्य एक स्वर से एक बार फिर मांग करते है कि शिमला प्रशासन, शिक्षा निदेशालय, शिक्षा मंत्री हिमाचल प्रदेश एवं लोकप्रिय मुख्यमंत्री हिमाचल प्रदेश इस मामले की संज्ञान लें और अतिशीघ्र इन निजी स्कूलों के मालिकों को एकतरफा फीस बढ़ोतरी पर लगाम लगाएं। जिससे अभिभावक रूपी साधारण जनता पर अतिरिक्त वित्तीय बोझ से बचाया जा सके।

जय हिन्द
जय हिमाचल
वन्दे मातरम

हिमाचल प्रदेश अभिभावक संघ शिमला।

error: Content is protected !!