विधानसभा के मानसून सत्र की अधिसूचना जारी, वीरभद्र सिंह व नरेंद्र बरागटा को दी जाएगी श्रद्धांजलि

Read Time:2 Minute, 51 Second

हिमाचल प्रदेश विधानसभा के 2 अगस्त से शुरू होने वाले मानसून सत्र के पहले दिन राज्य के 6 बार मुख्यमंत्री रहे वीरभद्र सिंह व 2 बार मंत्री एवं मुख्य सचेतक रहे नरेंद्र बरागटा को श्रद्धांजलि दी जाएगी। वीरभद्र सिंह और नरेंद्र बरागटा वर्तमान विधानसभा के सदस्य भी थे, ऐसे में परंपरा के अनुसार दोनों नेताओं को श्रद्धांजलि देने के बाद कार्यवाही को दिनभर के लिए स्थगित किए जाने की संभावना है। 2 से 13 अगस्त तक चलने वाले मानसून सत्र को आयोजित करने के लिए निवर्तमान राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय ने अपनी स्वीकृति प्रदान की है।

मानसून सत्र के दौरान होंगी 10 बैठकें

मानसून सत्र के दौरान कुल 10 बैठकें होंगी, जिनमें से 5 व 12 अगस्त को गैर-सरकारी संकल्प दिवस होगा। मानसून सत्र में कोविड-19 के हालात व प्रदेश में बरसात के कारण हुए नुक्सान जैसे मुद्दों पर प्रमुखता से चर्चा होने की संभावना है। राज्य में कोविड-19 के कारण अब तक 3,480 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 2.03 लाख से अधिक इसकी चपेट में आ चुके हैं। राज्य के 2 बड़े नेता वीरभद्र सिंह और नरेंद्र बरागटा भी इसकी चपेट में आए थे। हालांकि जब उनका निधन हुआ तो उस समय उनकी रिपोर्ट नैगेटिव आ चुकी थी।

महंगाई सहित अन्य मुद्दों पर सरकार को घेरेगा विपक्ष

विपक्षी विधानसभा के मानसून सत्र में इस बार सरकार को महंगाई, कोविड-19, वैक्सीन की कमी, अवैध खनन और बरसात के कारण हुए नुक्सान जैसे मुद्दों पर घेरने का प्रयास करेगा। मंडी संसदीय क्षेत्र व 3 विधानसभा उपचुनाव से पहले होने वाले इस सत्र को महत्वपूर्ण माना जा रहा है, क्योंकि इसके बाद दोनों राजनीतिक दल चुनाव मैदान में एक-दूसरे के सामने नजर आएंगे। लिहाजा ऐसे में पक्ष-विपक्ष अपने-अपने तरीके से एक-दूसरे को घेरने का प्रयास करेंगे। इसके लिए बाकायदा विधायक दल की बैठक में रणनीति बनेगी।

error: Content is protected !!
Hi !
You can Send your news to us by WhatsApp
Send News!