Right News

We Know, You Deserve the Truth…

केवाईसी के लिए अब SBI ब्रांच जानें की जरूरत नहीं, बैंक ने ग्राहकों को दी बड़ी राहत

देश इस समय कोरोना की दूसरी लहर से जूझ रहा है। बड़ी संख्या में लोग इस बिमारी की बिमारी की चपेट में आ रहे हैं। संक्रमण और ना फैले इसको देखते हुए स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने ग्राहकों को बड़ी छूट दी है। एसबीआई कस्टमर को अब केवाईसी के लिए बैंक जानें की जरूरत नहीं है। बैंक ने स्पष्ट तौर पर कहा है कि लोगों को केवाईसी के लिए बैंक आनें की जरूरत नहीं है। कस्टमर ई-मेल और पोस्ट ऑफिस जैसे माध्यमों के जरिए भी केवाईसी करवा सकेंगे। 

बैंक के ट्वीट करते हुए लिखा, ‘कोविड-19 महामारी के कारण देश के कई हिस्सों में लाॅकडाउन है। जिसके कारण बैंक ने यह निर्णय लिया है कि कस्टमर का केवाईसी अपडेट पोस्ट या रजिस्टर्ड ईमेले के जरिए किया जाए। ग्राहकों को केवाईसी अपडेट करने के लिए बैंक आने की जरूरत नहीं है।’ के वाई सी ना करवाने की स्थिति में आपके खातों के लेन देन पर रोक लगाई जा सकती है। बता दें आरबीआई के नियमों के मुताबिक बैंकों को निश्चित समय के बाद अपने केवाईसी को अपडेट कराना होगा। 

कब होता है के वाई सी 

बैंक अमूमन लो रिस्क वाले ग्राहकों से हर दस साल पर के वाई सी अपडेट करने को कहता है। वहीं मीडियम रिस्क वाले ग्राहकों को आठ साल पर के वाई सी अपडेट करवाना होता है। जबकि हाई रिस्क वाले कस्टमर को हर दो साल पर के वाई सी अपडेट करना पड़ता है। यह कैटेगरी वैल्यू और ट्रांजैक्शन के आधार पर तय किया जाता है। 

KYC के लिए जरुरी डॉक्यूमेंट 

अगर खाताधारक नाबालिग है और उम्र 10 साल से कम है तो उनका ID प्रूफ लगेगा, जो अकाउंट को ऑपरेट कर रहे हैं। अगर नाबालिग खुद अकाउंट ऑपरेट कर रहा है, तो उस स्थिति में व्यक्ति की पहचान या घर के पते के वेरिफेशन की प्रक्रिया दूसरे सामान्य केस के समान होगी।

अगर आप एनआरआई हैं और एसबीआई में आपका अकाउंट है तो आप अपना पासपोर्ट या रेजीडेंस वीजा कॉपी दे सकते हैं। रेजीडेंस वीजा को फॉरेन ऑफिसर्स, नोटरी, इंडियन एम्बेसी, संबंधित बैंक के ऑफिसर द्वारा वारिफाई होना चाहिए। 

error: Content is protected !!