12.1 C
Delhi
Wednesday, December 7, 2022
Home Blog

प्राइवेट कंपनी के मालिक को हनी ट्रैप में फंसा कर लूटने वाली यूट्यूबर नामरा कादिर गिरफ्तार, ब्लैकमेल कर ऐंठे थे 80 लाख

0

नई दिल्‍ली. प्रायवेट कंपनी के मालिक को हनीट्रैप कर उससे 80 लाख रुपए लूटने के आरोप में दिल्‍ली की एक यूट्यूबर नामरा कादिर को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. उसके पति और सह आरोपी मनीष की तलाश की जा रही है. पुलिस ने बताया कि कोर्ट ने नामरा को 4 दिन की पुलिस रिमांड पर भेजा है, जहां उससे पूछताछ की जाएगी. नामरा कादिर ने अपना जुर्म कबूल कर लिया है और बिजनेसमैन से जो धन और सामान उसने लिया था, उसकी बरामदगी की जा रही है. पुलिस अधिकारी ने बताया कि नामरा कादिर और उसके पति ने अंतरिम जमानत के लिए कोर्ट में अर्जी दी थी, जिसके खारिज होने के बाद नोएडा थाने में 26 नवंबर को मुकदमा कायम हुआ था.

पुलिस के अनुसार बादशाहपुर के दिनेश यादव ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी. उन्‍होंने बताया था कि वह एक बिजनेसमैन है और कुछ समय पहले ही नामरा कादिर के संपर्क में आया था. नामरा और उसका पति मनीष बेनीवाल दोनों साथ थे जो दिल्‍ली के शालीमार गार्डन के रहने वाले हैं. पुलिस ने बताया कि यह भी देखा जा रहा है कि कादिर ने किन-किन लोगों को लूटा है. इस संबंध में अन्‍य लोगों के सामने आने की उम्‍मीद है. वहीं मनीष की गिरफ्तारी के लिए जगह-जगह छापेमारी की जा रही है, उसे जल्‍द ही पकड़ लिया जाएगा.

यूट्यूब पर 6 लाख से अधिक सब्‍सक्राइबर्स है नमरा कादिर के

पुलिस ने बताया कि नामरा कादिर की उम्र मात्र 22 साल है और वह सोशल मीडिया पर सक्रिय रहती है. वह यूट्यूब पर भी लोकप्रिय है और उसके 6 लाख से अधिक सब्‍सक्राइबर्स हैं. उसके खिलाफ 21 साल के दिनेश यादव ने रिपोर्ट दर्ज कराई थी कि नामरा ने हनीट्रैप कर उसे ब्‍लैकमेल किया और उससे 80 लाख रुपए की लूट की है. दिनेश के बताया कि नामरा कादिर ने अपने चैनल पर मेरे बिजनेस प्रमोशन के लिए दो लाख रुपए लिए थे. इसके बाद से वह दिनेश से बातचीत करने लगी थी. एक दिन उसने दिनेश से कहा कि वह उसे पसंद करती है और उससे शादी करना चाहती है. इसके बाद दोनों करीब आ गए थे. एक दिन नामरा ने दिनेश से उसके बैंक कार्ड मांगे और धमकी दी कि यदि उसकी बात नहीं मानी तो वह रेप के झूठे केस में फंसा देगी. इसके बाद दिनेश ने पुलिस से मदद मांगी.

मंडी में लाखों के गहने व नकदी चुराने वाली महिला गिरफ्तार, जानें कैसे देती थी वारदात की अंजाम

0

मंडी में शातिर महिला किराए का कमरा ढूढ़ते -ढूंढ़ते कई घरों में लाखों की चोरी की वारदातों में अंजाम दे दिया। आरोपी महिला लोगों के घर में किराए पर मकान लेने के लिए घुसती थी, जहां पर भी उसे कोई घर सुना मिलता था। उस घर में सोने-चांदी के गहने व नकदी पर हाथ साफ कर देती है। इसी तरह आरोपी महिला पिछले लंबे समय से शहर में चोरी की वारदातों में अंजाम देती आ रही है।

इसके चलते मंगलवार शाम को शहर मंडी के भगवान मौहल्ला से पुलिस को शिकायत मिली और पुलिस ने मृत्युजंय मंदिर के पास से किराए के मकान में रही आरोपी महिला को गिरफ्तार कर लिया और उससे लाखों 8.60 रुपए के सोने-चांदी के आभूषण बरामद किए गए।

जानकारी के अनुसार मंगलवार शाम को सिटी चौकी में रचना शर्मा पत्नी योगेश कुमार निवासी मकान नंबर 54/09, भगवान मौहल्ला मंडी, पीओ और तहसील सदर मंडी ने चोरी की शिकायत दर्ज करवाई। इस दौरान पुलिस चौकी की पुलिस ने मृत्युजंय मंदिर के पास किराए के मकान में रह रही एक संदिग्ध महिला लक्ष्मी पत्नी राजन निवासी हरिहरपुर टोला, लोहारां, डाकघर हरिहरपुर, गोरखपुर (खजनी) उत्तर प्रदेश को पूछताछ के लिए हिरास्त में लिया। पूछताछ के दौरान महिला के कमरे से लाखों रुपए के कुछेक गहने बरामद कर लिए गए हैं।

बता दें कि शहर में पिछले दिनों हुई चोरियों के मामले में 8.60 लाख रुपए की सोना-चांदी के आभूषणों की चोरियां हुई हैं, जिसमें 8.50 लाख रुपए का 170 ग्राम सोना व 10 हजार रुपए का 170 ग्राम चांदी शामिल हैं। इन सब चोरियों के मामले में भी आरोपी महिला का हाथ बताया जा रहा है। इस संबंध में अभी पुलिस पूछताछ करेगी।

आज कोर्ट में पेश होगी आरोपी महिला
वहीं, एसपी शालिनी अग्निहोत्री ने कहा कि आरोपी महिला को बुधवार को कोर्ट में पेश किया जाएगा। रिमांड के बाद ही उससे सख्ती से पूछताछ की जाएगी। कहा कि शेष अन्य सोना-चांदी के आभूषणों को भी रिवकर करने की उम्मीद है।

पति के साथ मकान में रहती थी महिला

वहीं, लाखों रुपए की चोरी मामले की आरोपी महिला मंडी शहर में मृत्युजंय मंदिर के पास अपने पति राजन के साथ रहती थी। इन चोरियों के मामले में पुलिस उसके पति से भी पूछताछ कर सकती है। क्योंकि इतनी बड़ी-बड़ी चोरी की वारदातों में कहीं न कहीं उसके पति का हाथ होने की शंका जताई जा रही है।

बिलासपुर में आंगन में खेल रहे बच्चे के ऊपर चढ़ी जीप, मौके पर मौत, चालक फरार

0

बिलासपुर: घर के आंगन में खेल रहे अढ़ाई साल के मासूम बच्चे को जीप चालक ने कुचल कर मार डाला। घटना जिला बिलासपुर के बन्दला गांव में घटित हुई। मृतक बच्चे की पहचान अक्षय पुत्र राकेश के रूप में की गई है। वहीं हादसे के बाद जीप चालक मौके पर से फरार हो गया है। हादसे की सूचना मिलते ही पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच पड़ताल शुरू कर दी है। 

बताया जा रहा है कि उक्त जीप घर के साथ लगते मकान में चल रहे काम को लेकर रेत-बजरी लेकर आई थी। जब चालक जीप से सामान अनलोड कर जाने लगा तो इस दौरान बच्चा जीप की चपेट में आ गया। पुलिस ने मृतक बच्चे का पोस्टमार्टम क्षेत्रीय अस्पताल बिलासपुर में करवाने के उपरांत शव परिजनों को सौंप दिया है। वहीं मृतक बच्चे के परिजनों ने प्रशासन से उक्त जीप चालक के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग की है। पुलिस प्रवक्ता डीएसपी राजकुमार ने मामले की पुष्टि की है। 

सोलन में तीन मंजिला बिल्डिंग का डंगा ढहा, प्रशासन ने दिए बिल्डिंग खाली करने के निर्देश

0

सोलन: सोलन शहर के सपरून पावर हाउस के पास मंगलवार देर शाम एक बिल्डिंग का डंगा ढहने से बिल्डिंग को खतरा पैदा हो गया (Retaining wall of building collapsed in Solan) है. एहतियात के तौर पर प्रशासन ने बिल्डिंग को खाली करने के निर्देश दिए हैं. जानकारी के अनुसार मंगलवार शाम को अचानक एक 3 मंजिला इमारत का डंगा गिर गया. इस अपार्टमेंट में 9 फ्लैट हैं और इसमें से 5 में लोग रहते हैं, जबकि 4 इस समय खाली हैं.(Retaining wall of building collapsed in Solan).

घटना की सूचना मिलने पर जिला प्रशासन और नगर निगम के अधिकारी भी मौके पर पहुंचे और स्थिति का जायजा लिया. बिल्डिंग को खतरा देखते हुए प्रशासन ने लोगों को फ्लैट खाली करने के निर्देश दिए हैं. इसके साथ ही यहां पर डंगा लगाने का काम भी शुरू कर दिया गया है. जिस बिल्डिंग का डंगा गिरा है, उसके नीचे दूसरे प्लॉट की कटिंग चल रही है. प्रशासन ने उसे भी नोटिस दिया है. कटिंग अधिक होने की वजह से ऊपर बने अपार्टमेंट के साथ लगता डंगा अचानक बैठ गया और कुछ दरारे भी वहां नजर आ रही हैं. जैसे ही यह डंगा गिरा तो अपार्टमेंट के लोगों ने इसकी शिकायत प्रशासन से की. जिसके बाद तहसीलदार सोलन पुलिस के साथ मौके पर पहुंचे और स्थिति का जायजा लिया.

उनके द्वारा आवश्यक दिशा निर्देश प्लॉट के मालिक और ठेकेदार को दिए गए. वहीं, अपार्टमेंट में रह रहे लोगों को फ्लैट खाली करने की सलाह दी है. तहसीलदार मुल्तान सिंह बनियाल ने कहा कि जैसे ही उन्हें सूचना मिली एक अपार्टमेंट को खतरा पैदा हो गया है तो वह मौके पर पहुंचे. उन्होंने कहा कि जो स्ट्रक्चर कच्चा था वह गिर चुका है. अभी स्थिति नियंत्रण में है, लेकिन एहतियातन सभी फ्लैट खाली करने को कहा गया है. उन्होंने बताया कि प्लॉट के मालिक और ठेकेदार को नोटिस जारी किया गया है और उन्हें आवश्यक नियम अपनाने के लिए कहा गया है, ताकि साथ लगते अपार्टमेंट को कोई खतरा पैदा न हो.

बंबर ठाकुर के खिलाफ और कांग्रेस को हारने के लिए काम करने पर कांग्रेस के आठ पदाधिकारी निष्कासित

0

हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर ब्लॉक कांग्रेस की बैठक मंगलवार को देशराज ठाकुर की अध्यक्षता में संपन्न हुई। बैठक में सदर से कांग्रेस प्रत्याशी बंबर ठाकुर के खिलाफ विधानसभा चुनाव में कार्य करने वाले पार्टी के आठ नेताओं और कार्यकर्ताओं को खंड स्तर पर पार्टी से निष्कासित कर गया है।

बैठक में विधानसभा चुनावों में बिलासपुर सदर से कांग्रेस प्रत्याशी बंबर ठाकुर के खिलाफ खुला प्रचार करने और उन्हें हराने का प्रयास करने के प्रमाणों सहित मिली शिकायतों के आधार पर कांग्रेस पार्टी के आठ पदाधिकारियों को पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से तुरंत प्रभाव से निष्कासित करने का सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया। निष्कासित किए गए पदाधिकारियों में पूर्व विधायक तिलक राज शर्मा, जिला युवा कांग्रेस अध्यक्ष आशीष ठाकुर, प्रवक्ता संदीप संख्यान, हेमराज ठाकुर, कांता शर्मा, भूपेंद्र ठाकुर, निर्मला राजपूत और जिला परिषद सदस्य गौरव शर्मा का नाम शामिल है।

पंजाब की युवती के हत्यारे पति की तलाश में जुटी पुलिस, मेडिकल कॉलेज नेरचौक में होगा पोस्टमार्टम

0

कुल्लू। भुंतर में हुए हत्याकांड मामले में अभी पुलिस के हाथ खाली हैं। मृतका की मां, मृतका के मासड़ लखबिंदर सिंह तथा अन्य परिजन कुल्लू पहुंच गए हैं। अपनी प्यारी बेटी के शव को देखकर मां बेहाल है ओर उनके आंसू रुकने का नाम ही नहीं ले रहे थे।

बेटी के शव की हालत इतनी खराब हो चुकी थी मां का कलेजा पीड़ा सहन करने योग्य नहीं था। जिसकी हत्या कर दी गई उसका एक भाई है लेकिन वो भी मानसिक रूप से स्वस्थ नहीं है। परिवार पर मानो कोई मुसीबतों का पहाड़ ही टूट पड़ा हो।

पुलिस ने शव को क्षेत्रीय अस्पताल में पोस्टमार्टम के लिए रखा है लेकिन हत्या के कारण उसके शव को पोस्टमार्टम के लिए नेरचौक मेडिकल कालेज भेजा जाना है।

पंजाब के युवती युवक का प्रेम विवाह हुआ था। जोकि करीब डेढ़ महीना पहले ही भुंतर आए थे ओर परगाणु गांव में किराए के मकान में रह रहे थे। पति ने 22 नवंबर से पहले ही अपनी पत्नी की हत्या कर दी थी। हत्यारे पति ने शव को कम्बल में लपेट कर कमरे में ही रख दिया ओर फरार हो गया था। दुर्गंध आने पर मामला सामने आया था।

पुलिस अधीक्षक गुरदेव शर्मा ने बताया कि कल बुधवार को शव नेरचौक भेजा जाएगा जहां डाक्टरों की टीम पोस्टमार्टम प्रक्रिया को पूरा करेगी। मृतका के परिजन कुल्लू पहुंच गए हैं। पोस्टमार्टम के बाद शव उनके सुपुर्द कर दिया जाएगा। शर्मा ने कहा कि हत्यारे की जानकारी हासिल कर ली गई है। पुलिस संभावित ठिकानों पर छापेमारी कर रही है।

हिमाचल में कांग्रेस को मिला बहुमत तो यह सात नेता होंगे मुख्यमंत्री पद के प्रबल दावेदार

0

हिमाचल विधानसभा चुनाव के लिए 12 नवंबर को मतदान हुआ था. चुनाव परिणाम आठ दिसंबर को आएंगे. नतीजों से पहले एग्जिट पोल भी आ गए हैं. प्रदेश में बीजेपी और कांग्रेस में टक्कर की लड़ाई है. ऐसे में अगर इस बार प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनती है तो मुख्यमंत्री की कुर्सी किसे मिलेगी, यह देखना दिलचस्प होगा. इस बार प्रदेश में कांग्रेस के आधा दर्जन से ज्यादा नेता मुख्यमंत्री पद के दावेदार हैं.

मंडी से कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कौल सिंह ठाकुर कांग्रेस पार्टी में अभी तक मुख्यमंत्री पद के सबसे प्रबल दावेदारों में से एक हैं. 1977 में अपना पहला चुनाव जीतने के बाद वह आठ बार विधायक रह चुके हैं. इसके अलावा कई बार मंत्री भी बने हैं. कौल सिंह ठाकुर कांग्रेस के दो बार अध्यक्ष भी रह चुके हैं. वह विधानसभा स्पीकर भी बने थे. वरिष्ठता और अनुभव के आधार पर कांग्रेस पार्टी में वह मुख्यमंत्री के दावेदारों में पहले पायदान पर हैं. बशर्ते, वह अपनी सीट निकाल सकें. उनके साथ कितने विधायक जुड़ते हैं, यह अभी तय नहीं है. वह 2012 में भी मुख्यमंत्री पद के दावेदारों में शुमार थे.

राम लाल ठाकुर

जिला बिलासपुर को आज तक मुख्यमंत्री पद नहीं मिला है. यहां से राम लाल ठाकुर पांच बार विधायक रह चुके हैं. वह पहली बार 1985 में विधानसभा के लिए चुने गए थे.राम लाल ठाकुर पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के वफादारों में से एक थे. वह भी मंत्री रह चुके हैं और संगठन में भी अहम पदों पर रह चुके हैं. श्री नैनादेवी से अगर वह जीत जाते हैं तो वह भी कांग्रेस के मुख्यमंत्री के दावेदारों में से एक हैं. वह तीन बार मंत्री रह चुके हैं.

मुकेश अग्निहोत्री

2003 से लगातार जीत दर्ज कर रहे नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री जिला ऊना के हरोली से पांचवी बार चुनाव मैदान में हैं. पत्रकार से राजनेता बने मुकेश अग्निहोत्री भी मुख्यमंत्री पद के दावेदारों में शुमार हैं. 2012 से 2017 की कांग्रेस सरकार में वह उद्योग व लोक संपर्क विभाग के मंत्री रह चुके हैं. वह संसदीय कार्यमंत्री का जिम्मा भी देख संभाल चुके हैं. अगर कांग्रेस उन्हें मुख्यमंत्री बनाती है तो जिला ऊना से इस पद को संभालने वाले वह पहले विधायक होंगे.

सुखविंदर सिंह सुक्खू

पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह से हमेशा लोहा लेते रहने वाले सुखविंदर सिंह सुक्खू जिला हमीरपुर के नादौन विधानसभा सीट से तीन बार विधायक रह चुके हैं. अगर वह इस बार जीत जाते हैं तो वह चौका लगाने में कामयाब हो जाएंगे. वह 2013 से 2019 तक लगातार दो बार कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष रह चुके हैं. वह कभी भी मंत्री नहीं रहे, लेकिन आलाकमान में उनकी अच्छी पकड़ होने के कारण वह भी मुख्यमंत्री पद के दावेदारों में शामिल हैं. वह 2003,2007 और 2017 में जीतकर विधानसभा पहुंच चुके हैं. वह कांग्रेस पार्टी की ओर से सभी खेमों में से सबसे ज्यादा अपनों को टिकट दिलाने में कामयाब रहे हैं. अगर उनके खेमे के सभी विधायक जीत गए तो संख्या बल के आधार पर मुख्यमंत्री पद के मजबूत दावेदार उभर जाएंगे.

आशा कुमारी

आशा कुमारी जिला चंबा के डलहौजी हलके से मौजूदा विधायक हैं. वह छह बार विधायक बन चुकीं हैं. वह मंत्री भी रह चुकी हैं. आशा कुमारी पहली बार 1985 में जिला चंबा के बनीखेत हलके से जीत कर विधानसभा पहुंची थीं. वह जमीन हड़पने के एक मामले में जिला अदालत से सजायाफ्ता हैं. उनकी सजा को प्रदेश उचच न्यायालय ने निलंबित कर दिया था. अब मामला उच्च न्यायालय में लंबित हैं. यही एक चीज है जो उनके मुख्यमंत्री बनने के रास्ते में बाधा बन रही हैं.

प्रतिभा सिंह

पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह की पत्नी प्रतिभा सिंह भी मुख्यमंत्री पद की रेस में हैं. वह 2021 के उप चुनावों में मंडी संसदीय हलके से भाजपा के ब्रिगेडियर खुशहाल सिंह को हरा कर लोकसभा पहुंचीं और प्रदेश में भाजपा की सरकार होने के बावजूद कांग्रेस ने यह बडा उल्टफेर किया था. वह पहले भी सांसद रह चुकी है लेकिन विधायक कभी नहीं रहीं. चूंकि वह अभी विधायक नहीं हैं व यह उनके रास्ते में एक बडी बाधा हो सकती हैं. वह मौजूदा समय में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष हैं .

सुधीर शर्मा

पूर्व मंत्री सुधीर शर्मा धर्मशाला से कांग्रेस उम्मीदवार हैं. वह दस जनपथ के करीबियों में गिने जाते हैं.2019 के उपचुनाव में उन्हें टिकट नहीं दिया गया था. इस उपचुनाव में कांग्रेस हार गई थी. वह 2003 में पहली बार बैजनाथ से विधायक बने थे. 2012 में उन्होंने धर्मशाला से चुनाव लड़ा और विजयी हुए. वह हालीलाज कांग्रेस के भी वफादार हैं.

चम्बा में इन गांवों के विद्यार्थी 10 किमी का सफर कर पहुंचे है स्कूल, बिना सड़क 1200 से ज्यादा लोग परेशान

0

तीसा (चंबा)। ग्राम पंचायत चरड़ा के गांव ज्यूरी, गुवाड़ी और मौरा के विद्यार्थी 10 किलोमीटर जंगल से होकर ऊबड़-खाबड़ रास्ता पार कर राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला चरड़ा पहुंचने के लिए मजबूर हैं।

वर्ष 2002 में चरड़ा से ज्यूरी तक 10 किमी सड़क स्वीकृत हुई लेकिन महज तीन किलोमीटर सड़क बनाने के बाद निर्माण कार्य बंद हो गया। इसके चलते ग्रामीण स्वयं को ठगा सा महसूस कर रहे हैं। ग्रामीणों की मानें तो सड़क के अभाव में क्षेत्र की 1,200 की आबादी को परेशानियां उठानी पड़ रही हैं। कई बार शासन-प्रशासन को भी अवगत करवाया गया लेकिन सड़क का कार्य एक इंच भी आगे नहीं सरक पाया है। सड़क निर्माण न होने से लोगों की दुश्वारियां कम होने का नाम नहीं ले रही हैं।

गांवों का सड़क से न जुड़ना क्षेत्र के विकास की राह में सबसे बड़ा रोड़ा बना हुआ है। जमीन विभाग के नाम करने के बावजूद सड़क गांव तक नहीं पहुंच पाई है। -साई, ज्यूरी निवासी।

सड़क के अभाव में बच्चों को अकेले स्कूल भेजने से अभिभावक कतराते हैं। जंगल में भालुओं का भय हर समय बना रहता है। -नजीर, गुवाड़ी निवासी।

चरड़ा से ज्यूरी के लिए दस किमी सड़क बनने संबंधी विभागीय आश्वासन से उन्हें आस जगी थी लेकिन तीन किमी सड़क के बाद निर्माण कार्य अधर में लटका पड़ा है। -लाल सेन, ज्यूरी निवासी।

सड़कों को भाग्य रेखा कहा जाता है लेकिन चरड़ा के ज्यूरी, गुवाड़ी और मौरा गांवों को दरकिनार कर सड़क सुविधा से अभी तक अछूता ही रखा गया है। -हसनदीन, ज्यूरी निवासी।

गांवों में अचानक कोई बीमार पड़ जाता है तो उसे पालकी या फिर पीठ पर उठाकर ही दस किमी पैदल चलने के बाद मुख्य सड़क तक पहुंचाना पड़ता है। -मीर अली, ज्यूरी निवासी।

सड़क निर्माण के लिए ग्रामीणों ने अपनी जमीन विभाग के नाम कर दी है लेकिन तीन किलोमीटर सड़क बनाने के बाद विभाग ने भी हाथ पीछे खींच लिए हैं। -फकीर, ज्यूरी निवासी।

चरड़ा से ज्यूरी तक दस किमी सड़क का निर्माण होना प्रस्तावित है। लोगों के सहयोग से तीन किमी सड़क का निर्माण भी करवाया गया लेकिन वन विभाग की जमीन आने से कार्य रुका पड़ा है। वन विभाग को एफसीए केस बनाकर भेजा गया है। एफसीए केस को अनुमति मिलते ही सड़क निर्माण कार्य शुरू किया जाएगा।
जोगेंद्र शर्मा, अधिशासी अभियंता, लोक निर्माण विभाग चुराह।

Soya masala paneer dosa racipe Paneer Racipe American Bachelor Egg Curry Recipes Beautiful Rubina Dilaik Himachali girl dance