ट्विटर विवाद में नए आईटी मंत्री अश्विनी सैनी ने कहा, भारत में रहना होगा तो कानून मानना पड़ेगा

Read Time:2 Minute, 29 Second

सूचना एवं प्रसारण मंत्री के पदभार ग्रहण करते ही अश्विनी वैष्णव ने माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर से जारी सरकारी विवाद पर अपना कड़ा रुख दिखाया है। वैष्णव ने गुरुवार को पदभार संभालते ही ट्विटर को कड़ा संदेश देते हुए कहा कि देश का कानून सबसे ऊपर है और ट्विटर को नियमों का पालन करना होगा। जब ट्विटर से नए आईटी कानून का पालन नहीं करने के बारे में पूछा गया, तो मंत्री ने संकेत दिया कि सभी को नए दिशानिर्देशों का पालन करना होगा।

उन्होंने केंद्रीय मंत्री के रूप में देश की सेवा करने का मौका देने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को धन्यवाद दिया। मंत्री ने कहा, “मुझे देश की सेवा करने का इतना बड़ा मौका देने के लिए प्रधानमंत्री को धन्यवाद देने के लिए शब्द नहीं हैं।” ओडिशा के सांसद वैष्णव ने बुधवार को कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ ली। उन्हें सूचना और प्रौद्योगिकी मंत्रालय के साथ-साथ रेलवे का प्रभार भी दिया गया है।

वैष्णव ने कहा कि उनका मुख्य जोर कतार में अंतिम व्यक्ति के जीवन को बेहतर बनाने पर होगा। बता दें कि अश्विनी वैष्णव ने रविशंकर प्रसाद की जगह ली है। वह पिछले कुछ समय से ट्विटर से अपनी खींचतान को लेकर काफी चर्चा में थे। उधर, ट्विटर ने गुरुवार को दिल्ली हाई कोर्ट से कहा है कि शिकायत निवारण अधिकारी की नियुक्ति में 8 हफ्ते का समय लगेगा। दिल्ली उच्च न्यायालय ने मंगलवार को ट्विटर को 8 जुलाई तक सूचित करने का निर्देश दिया कि वह नए सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) नियमों के अनुपालन में एक स्थानीय शिकायत निवारण अधिकारी (आरजीओ) की नियुक्ति कब तक करेगा?

(इनपुट भाषा: एएनआई)

error: Content is protected !!
Hi !
You can Send your news to us by WhatsApp
Send News!