उत्तर प्रदेश सरकार ने जौनपुर के पूर्व सांसद धनंजय सिंह की संपत्ति कुर्क करने की तैयारी कर ली है। इस कड़ी में यूपी पुलिस ने धनंजय सिंह पर 25 हज़ार रूपये का इनाम भी घोषित कर दिया है। पुलिस के अधिकारियों ने गृह विभाग को धनंजय सिंह पर इनाम की राशि बढ़ाने के लिए भी पत्र लिखा है। इस बीच धनंजय की तलाश में छापेमेरी जारी है।

पूर्व सांसद धनंजय सिंह की तलाश में गुरुवार को कई जगह पर दबिश दी गई, मगर उसे पकड़ा नहीं जा सका। दरअसल लखनऊ के चर्चित अजीत सिंह हत्याकांड में धनंजय सिंह पर साजिश रचने का आरोप है। धनंजय सिंह पर यह आरोप इस मामले के एक आरोपी गिरधारी की पूछताछ के बाद लगा है।

हालांकि गिरधारी पुलिस मुठभेड़ में मारा गया, लेकिन जो उसने बयान दिया, उसके आधार पर अजीत सिंह हत्याकांड की साजिश के पीछे माफिया और पूर्व सांसद धनंजय सिंह का हाथ है, जिसके बाद धनंजय सिंह का नाम एफआईआर में शामिल किया गया। इस मामले में पुलिस धनंजय की गिरफ्तारी का वारंट भी ले चुकी है, लेकिन वह फरार है।

जानकारी के मुताबिक, देश के अलग-अलग राज्यों में धनंजय सिंह के कई फ्लैट और फॉर्म हाउस हैं। ईट भट्टे के साथ ही कई कंपनियां भी ऐसी है जिसमें अंदेशा है कि अवैध धंधा किया जाता है। पुलिस को शक है कि यह करोड़ों की संपत्ति अपराध के बूते ही अर्जित की गई है इसीलिए इस मामले की जांच करने के लिए ईडी को पत्र भी लिखा गया है।

अब यूपी पुलिस इन संपत्तियों की जांच के साथ-साथ इन्हें कुर्क करने की भी कार्रवाई करने जा रही है। यानी धनंजय सिंह की मुश्किलें और बढ़ती जा रही है। यूपी पुलिस के बाद अब उन पर ईडी शिकंजा कस सकता है।

error: Content is protected !!