प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को ऑक्सीजन और दवा की उपलब्धता की समीक्षा के लिए विशेषज्ञों के साथ एक वर्चुअल बैठक की। उन्होंने COVID-19 महामारी के संबंध में, मानव संसाधन की स्थिति की भी समीक्षा की, और वृद्धि करने के तरीकों के बारे में रविवार को मंत्री नरेंद्र मोदी ने ऑक्सीजन और दवा की उपलब्धता की समीक्षा करने के लिए विशेषज्ञों के साथ ए बैठक की। उन्होंने COVID-19 महामारी के संबंध में मानव संसाधन स्थिति की समीक्षा की और इसे बढ़ाने के तरीके भी बताए। सरकारी सूत्रों के अनुसार, प्रधानमंत्री ने आज देश में COVID-19 के प्रभावी प्रबंधन के लिए मानव संसाधन बढ़ाने के मामले की समीक्षा की।

इस बैठक के दौरान, छात्रों को प्रोत्साहित करने और कोविद ड्यूटी में शामिल होने के लिए मेडिकल और नर्सिंग पाठ्यक्रमों के पास-आउट को प्रोत्साहित करने के लिए कई कदम उठाए गए।

आक्सीजन की आपूर्ति बढ़ाने पर चर्चा

पीएम मोदी की बैठक के बाद पीएमओ की ओर से इस मीटिंग के बड़े बिंदुओं पर चर्चा हुई। पीएमओ के मुताबिक, ऑक्सीजन की आपूर्ति और उपलब्धता को बढ़ाने के लिए अभिनव तरीकों की खोज करने की अपनी दिशा के साथ पीएम नरेंद्र मोदी ने आज गैसीय ऑक्सीजन के उपयोग की समीक्षा करने के लिए एक बैठक की अध्यक्षता की। पीएमओ के मुताबिक, कई उद्योगों जैसे स्टील प्लांट, पेट्रोकेमिकल इकाइयों के साथ रिफाइनरियों, समृद्ध दहन प्रक्रिया का उपयोग करने वाले उद्योग, बिजली संयंत्र आदि में ऑक्सीजन संयंत्र हैं जो गैसीय ऑक्सीजन का उत्पादन करते हैं जो इस प्रक्रिया में उपयोग किया जाता है। इस ऑक्सीजन को चिकित्सा उपयोग के लिए टैप किया जा सकता है।

पीएमओ के अनुसार, कोरोना वायरस महामारी के बीच चिकित्सा ऑक्सीजन की आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए भारत सरकार ने ऑक्सीजन का उत्पादन करने के लिए मौजूदा नाइट्रोजन संयंत्रों के रूपांतरण की व्यवहार्यता का पता लगाया। विभिन्न ऐसे संभावित उद्योग, जिनमें ऑक्सीजन के उत्पादन के लिए मौजूदा नाइट्रोजन संयंत्रों की पहचान की जा सकती है। उन्होंने आगे बताया कि उद्योगों के साथ विचार-विमर्श पर, अब तक 14 उद्योगों की पहचान की गई है, जहां पौधों का रूपांतरण चल रहा है। इसके अलावा 37 नाइट्रोजन संयंत्रों की पहचान उद्योग संघों की मदद से भी की गई है।ऑक्सीजन के उत्पादन के लिए संशोधित नाइट्रोजन संयंत्र को या तो पास के अस्पताल में स्थानांतरित किया जा सकता है, या अगर यह संयंत्र को स्थानांतरित करने के लिए संभव नहीं है, तो इसका उपयोग ऑक्सीजन के ऑन-साइट उत्पादन के लिए किया जा सकता है, जिसे विशेष के माध्यम से अस्पताल पहुंचाया जा सकता है। वाहिकाओं / सिलेंडर।

कई अहम निर्णय लिए गए

भारत सरकार के सूत्रों के मुताबिक, इस बैठक में कई और फैसले भी लिए गए। जैसे- नीट(NEET) परीक्षा में देरी कै फैसला और एमबीबीएस पास-आउट की पढ़ाई को प्रोत्साहित करना शामिल हो सकता है ताकि वो कोविड ड्यूटी में शामिल हो सकें। निर्णयों में कोविड ड्यूटी में भारत सरकार के अंतिम वर्ष एमबीबीएस और नर्सिंग छात्रों की सेवाओं का उपयोग करना भी शामिल हो सकता है। सरकारी सूत्रों के मुताबिक, कोविड ड्यूटी करने वाले चिकित्सा कर्मियों को सरकारी भर्ती में वरीयता के साथ-साथ वित्तीय प्रोत्साहन भी दिया जाएगा।

कोरोना के बिगड़ते हालात

देश में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों ने सभी को गहरी चिंता में डाल दिया है। रविवार को 24 घंटे के भीतर 3 लाख से अधिक नए मामले दर्ज दिए गए। इससे पहले शनिवार को 4 लाख से अधिक मामले सामने आए खे। यह अब तक एक दिन में आए सर्वाधिक मामलों का आंकड़ा है। देश में बीते 24 घंटों में कोरोना वायरस के 3,92,488 मामले सामने आए हैं। इस दौरान 3689 लोगों की मौत हुई है। इससे अब तक संक्रमित हुए लोगों की संख्या बढ़कर 1,95,57,457 हो गई, वहीं इस महामारी की चपेट में आकर दम तोड़ने वालों की संख्या 2,15,542 हो गई। फिलहाल देश में सक्रिय मामलों की संख्या 33,49,644 है। सक्रिय मामले कुल संक्रमण का 17.13% फीसद हैं। कोरोना से ठीक होने की दर गिरकर 81.84 फीसद और मृत्युदर 1.10 फीसद हो गई है। वैसे अब तक 1,59,92,271 लोग इस बीमारी से ठीक भी हो चुके हैं।

सरकार की ओर से मदद

इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सलाहकार भास्कर खुल्बे ने शनिवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय को दिल्ली में सरदार पटेल सीओवीआईडी ​​केयर सेंटर को 150 वेंटिलेटर प्रदान करने के लिए लिखा। भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (ITBP) के महानिदेशक एसएस देसवाल के अनुरोध के बाद, PM-CARES फंड के तहत COVID केयर सेंटर को वेंटिलेटर प्रदान किए गए हैं। आईटीबीपी ने दिल्ली के राधा सोमी सत्संग ब्यास सुविधा में सरदार पटेल सीओवीआईडी ​​केयर सेंटर चलाया, जिसमें 26 अप्रैल को 500 ऑक्सीजन बेड के साथ काम करना शुरू किया गया।

You have missed these news

error: Content is protected !!