केंद्र सरकार बुनियादी ढांचे के विकास को अत्यधिक प्राथमिकता दे रही है और उसने अगले दो वर्षों में सड़क निर्माण पर 15 लाख करोड़ रुपये खर्च करने का लक्ष्य रखा है। केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने शुक्रवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए भारत-अमेरिका साझेदारी विजन शिखर सम्मेलन को संबोधित करते हुए यह घोषणा की।

मंत्री को भरोसा है कि उनका मंत्रालय मौजूदा वित्तवर्ष में राजमार्ग निर्माण के 40 किलोमीटर प्रतिदिन का लक्ष्य हासिल करेगा। उन्होंने कहा, सरकार सड़क निर्माण क्षेत्र में 100 प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) की अनुमति दे रही है। गडकरी ने कहा, देश में 2019-2025 के लिए नेशनल इन्फ्रास्ट्रक्चर पाइपलाइन (एनआईपी) जैसी परियोजनाएं पहली बार बनी हैं और सरकार अपने नागरिकों को विश्व स्तर का इन्फ्रा देने और उनके जीवन की गुणवत्ता में सुधार करने के लिए प्रतिबद्ध है।

उन्होंने कहा कि एनआईपी के तहत, वर्ष 2025 तक 111 लाख करोड़ रुपये के कुल परिव्यय पर 7,300 से अधिक परियोजनाएं कार्यान्वित की जानी हैं और इस परियोजना का उद्देश्य परियोजना की तैयारी में सुधार करना है और राजमार्ग, रेलवे, बंदरगाह, हवाईअड्डों, मोबिलिटी, ऊर्जा, कृषि और ग्रामीण उद्योग जैसे बुनियादी ढांचे में निवेश को आकर्षित करना है। गडकरी ने कहा, द्विपक्षीय संबंधों के नए युग में, भारत और संयुक्त राज्य अमेरिका के राष्ट्रीय हित मेल खा रहे हैं और दोनों प्रशासनों के बीच विश्वास बढ़ रहा है। जल्द ही सभी बकाया व्यापार मुद्दों को हल किया जाएगा और प्रमुख व्यापार समझौतों पर हस्ताक्षर किए जाएंगे। मंत्री ने अमेरिकी कंपनियों को भारत में बुनियादी ढांचे और एमएसएमई क्षेत्रों में निवेश करने के लिए आमंत्रित किया।

error: Content is protected !!