हिमाचल प्रदेश मिल्‍क फेडरेशन के मंडी जिला में चक्‍कर स्थित मिल्‍क प्‍लांट के स्‍टोर में शनिवार सुबह भीषण आग लग गई। जिस पर दमकल विभाग के कर्मचारियों ने कुछ ही मिनटों में काबू पा लिया। हालांकि लाखों का नुकसान हुआ है, लेकिन करोड़ों की मशीनें जलने से बच गईं और कई जिंदगियां भी बाल-बाल बच गईं।

आग शनिवार सुबह करीब 9 बजे लगी। अभी कर्मचारी अपने काम पर पहुंचे ही थे कि उन्होंने धुआं उठता देखा। इसके बाद प्लांट में अफरा-तफरी मच गई। सुरक्षा कर्मियों ने तुंरत बचाव कार्य शुरू किया। मिल्क प्लांट के मैनेजर राकेश पाठक को और दमकल विभाग को फोन करके जानकारी दी। समय रहते कर्मचारियों को प्लांट से बाहर निकाल लिया गया। मिल्क प्लांट में लगे आग बुझाने के यंत्राें व रेत आदि से आग को बुझाने का काम शुरू कर दिया गया था। मंडी और सुंदरनगर से दमकल विभाग की गाड़ियां भी मौके पर पहुंची और आग पर काबू पाया। बिजली के शॉर्ट सर्किट से आग लगी।

स्टोर में रखा करीब 400 लीटर डीजल व सामान जलकर राख हो गया है। मिल्क फेडरेशन के अध्यक्ष निहाल चंद शर्मा मौके पर पहुंचे। जिन्होंने बताया कि यदि समय रहते आग पर काबू न पाया जाता तो करोड़ों रुपए का नुकसान हो सकता था। जिस कमरे में आग लगी, उसके साथ में ही करोड़ों रुपए की मशीनरी थी। हालांकि, आग लगने से पुराना जेनरेटर व स्विच यार्ड राख हो गए हैं। प्रारंभिक अनुमान के अनुसार करीब दो लाख रुपये का नुकसान हुआ है। लेकिन करोड़ों रुपये की मशीनरी बच गई।

error: Content is protected !!