कफोटा के अंतर्गत माशु गांव में पेयजल को लेकर हाहाकार मचा है। यहां 80 परिवार दस दिन से पानी की बूंद-बूद को तरस रहे हैं। इस समस्या के समाधान की मांग को लेकर महिलाएं कफोटा में जलशक्ति विभाग के सहायक अभियंता से मिलीं। इस दौरान महिलाओं ने पानी का समाधान न होने पर कार्यालय घेराव और सड़कों पर उतरने की धमकी दी।

क्षेत्र की जिमोली देवी, दीपो देवी, लीला देवी, रुक्मणि देवी, सत्या देवी, विनीता देवी सहित ग्रामीण अजब सिंह, सुनील चौहान, विंकेश धीमान, अनिल चौहान ने बताया कि माशु गांव को टोंस नदी से उठाऊ पेयजल योजना के माध्यम से पानी दिया जा रहा है। जो सात दिन से भी अधिक समय से खराब है। इस वजह से गांव की पेयजल आपूर्ति बंद हैं। ग्रामीणों ने बताया कि उनको अपने और मवेशियों के लिए पानी का इंतजाम करने में भारी दिक्कत हो रही है। वह दो किलोमीटर दूरी से पैदल चलकर पानी ढो रहे हैं। ग्रामीणों ने बताया कि दस दिन से यहां 80 परिवार पानी की बूंद-बूंद के लिये तरसना पड़ रहा है। जलशक्ति विभाग को उनकी परेशानी नजर नहीं आ रही है। महिलाओं ने विभाग को कड़े शब्दों में चेतावनी दी कि यदि जल्द पानी की आपूर्ति बहाल नहीं की गई तो वह कार्यालय का घेराव किया जाएगा। इसके बाद सड़कों पर भी धरना प्रदर्शन किया जाएगा। सहायक अभियंता जोगेंद्र चौहान ने बताया कि माशु गांव महिलाओं की शिकायत मिल चुकी है। योजना में खराबी के कारण पानी आपूर्ति नहीं हो पा रही है। कर्मचारियों को मौके पर भेजकर जल्द ही समस्या का समाधान कर दिया जाएगा।

error: Content is protected !!