Right News

We Know, You Deserve the Truth…

छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में ब्लैक फंगस ने दी दस्तक, स्टेरायड के सेवन के कारण हुआ हमला

राजधानी के बाद न्यायधानी में भी ब्लैक फंगस ने दस्तक दे दी है। तखतपुर के एक कोरोना पाजिटिव युवक ब्लैक फंगस का शिकार हो गया है। रायपुर के एक निजी अस्पताल में विशेषज्ञ चिकित्सकों की टीम ने उसका आपरेशन किया है। फिलहाल वे गहन चिकित्सा कक्ष में है। उनको दो महीने अभी इसी तरह रहना होगा।

शैलेष सिंगरौल 14 अप्रैल को कोरोना पाजिटिव हो गए थे। रायपुर के एक निजी अस्पताल में उनका इलाज चला। इस दौरान उनकी हालत काफी खराब हो गई थी। 30 अप्रैल को उनकी स्थिति कुछ सुधरी। पूरी तरह स्वस्थ्य होने के बाद उनको अस्पताल से छुट्टी मिली। स्वजन उनको रायपुर से तखतपुर लेकर आए। होम आइसोलेट होकर स्वास्थ्य लाभ कर रहे थे।

कुछ दिनों बाद अचानक सिर में तेज दर्द होने लगा। इसके साथ ही आंख और नाक में लालिमा आने लगी। सिर के साथ ही नाक और दांत में तेज दर्द होने लगा। इसी बीच उनका शुगर लेवल भी अनियंत्रित हो गया। स्थानीय चिकित्सकों को कुछ समझ में नहीं आया। स्वजनों ने रायपुर में इलाज कराने का निर्णय लिया। शैलेष को लेकर पांच मई को रायपुर गए और ईएनटी विशेषज्ञ चिकित्सकों से इलाज कराया।

तब पता चला कि शैलेष ब्लैक फंगस का शिकार हो गए हैं। चिकित्सकों ने तत्काल आपरेशन कराने की सलाह दी। इस पर उनके स्वजनों ने शैलेष को एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया। विशेषज्ञ चिकित्सकों की मौजूदगी में आठ मई को उनको आपरेशन हुआ। पांच घंटे चले आपरेशन के दौरान फंगस को निकाल दिया है।

उनकी दोनों आंखें व दांत सुरक्षित हैं। शैलेष अभी भी गहन चिकित्सा कक्ष में है। चिकित्सकों का कहना है कि अभी उनको दो महीने गहन चिकित्सा कक्ष में जरूरी परहेज के साथ रहना होगा। दो महीने तक प्रतिदिन उनको इंजेक्शन लगेगा।

स्टेरायड के सेवन के कारण हुआ हमला

शैलेष के स्वजनों ने बताया कि आपरेशन करने वाले चिकित्सकों ने जानकारी दी है कि कोरोना संक्रमण के दौरान स्टेरायड व एंटी बायोटिक दवाओं के अधिक सेवन के कारण ब्लैक फंगस का हमला हुआ है। ब्लैक फंगस का हमला कोरोना से ठीक होने वाले मरीजों में हो रहा है।

शहर के एक और युवक हुआ शिकार

इस बीच बिलासपुर के एक युवक पर ब्लैक फंगस का हमला हुआ है। कोरोना से ठीक होने के बाद उनको भी सबसे पहले तेज सिर दर्द हुआ। सिर दर्द के बाद आंख की रोशनी में दिक्कत आनी शुरू हुई। नजर भी चौंधियाने लगी। स्वजनों ने रायपुर एम्स में दाखिल कराया। जांच में ब्लैक फंगस की पुष्टि हुई।

error: Content is protected !!