अगर आप PUBG की भारत में वापसी का इंतज़ार कर रहे थे तो इस खबर को पढ़ना आपके लिए जरूरी है। दरअसल केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावडेकर ने आज एक बड़ा बयान देते हुए कहा कि कई मोबाइल गेम हिंसक, अश्लील और आदत लगाने वाली हैं और पबजी इनमें से एक है। इसी वजह से सरकार भारतीय सांस्कृतिक मूल्यों को बढ़ावा देने के लिए गेमिंग उत्कृष्टता केंद्र बनाएगी। आपको बता दें कि PUBG उन 100 ऐप्स में से एक है जिन पर सरकार ने पिछले साल बैन लगाया था। सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने कहा है कि मिनिस्ट्री VFX, गेमिंग और एनीमेशन से जुड़े कोर्स कराने के लिए गेम सेंटर बनाने वाली है। ताकि ऐसे गेम विकसित किये जाएं जिससे भारतीय कल्चर को बढ़ावा मिले।

जल्द भारत के कल्चर के हिसाब से बनेंगे गेम्स 
जावडेकर ने कहा कि सरकार भारत में गेमिंग सेंटर बनाएगी, जिसे जल्द ही लागू किया जा सकता है, जिससे भारतीय कल्चर को फायदा मिलेगा। पीएम मोदी की तरफ से मेड इन इंडिया मोबाइल गेमिंग ऐप को प्रमोट किया जाता है। मंत्री ने कहा कि यह घोषणा करते हुए मुझे बहुत खुशी हो रही है कि सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय आईआईटी मुम्बई के साथ मिलकर गेमिंग और अन्य संबंधित क्षेत्रों में उत्कृष्टता केंद्र बनाने का फैसला किया है। हम तैयारी के आखिरी चरण में हैं और 2021 से नया सत्र शुरू हो जाएगा। 

PUBG को टक्कर देने आया देसी गेम FAUG एकदम फुस्स गेम निकला

PUBG बैन करने के दौरान एक बड़ी खबर आई थी कि PUBG की जगह FAUG गेम लेगी। लेकिन हमारे एडिटर का अपना अनुभव FAUG गेम के साथ ज्यादा अच्छा नही रहा। उनका कहना है कि अक्षय कुमार समेत सरकार ने देश के गेमरज का FAUG लांच करके अच्छा उल्लू बनाया है। गेम के ग्राफिक्स एक दम बेकार है साथ में कांसेप्ट भी उतना अच्छा नही है। गलवान घाटी के नाम पर भी अच्छा खासा मजाक किया गया। राइट न्यूज़ इंडिया के एडिटर का कहना है कि FAUG एक ऐसा गेम है जो भारतीय सैनिकों का भी अपमान करता है और ऐसे गेम पर तत्काल रोक लगाई जानी चाहिए।

error: Content is protected !!