फर्जी आईएएस अधिकारी बनकर लूट रहा था वाहवाही, पुलिस ने किया गिरफ्तार

हरियाणा (Haryana) के महेंद्रगढ़ (Mahendragarh) जिले से एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है. जहां पर एक शख्स ने संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) के एक्जाम में 343वीं रैंक हासिल करने का नाम पर शहर में वाहवाही लूट रहा था.

पुलिस के मुताबिक बल्कि वो रैंक तमिलनाडु के प्रदीप कुमार ने हासिल की थी. इस घटना की शिकायत मिलने के बाद पुलिस ने आरोपी युवक के खिलाफ केस दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया है.

दरअसल, ये मामला महेंद्रगढ़ जिले के गांव खातोदड़ा का है. पुलिस अधिकारी के मुताबिक बीते 25 सितंबर को UPSC का रिजल्ट घोषित हुआ था. जिसमें जिले से 6 युवक और युवतियों ने UPSC में अच्छी रैंक से सफलता हासिल की थी. इसी दौरान खातोदड़ा के रहने वाले प्रदीप कुमार का नाम भी सामने आया था. जहां बीते 26 सितंबर को यादव धर्मशाला में जिलेभर के चयनितों छात्र- छात्राओं का सम्मान समारोह हुआ था. उसमें आरोपी प्रदीप कुमार यादव को भी सम्मानित किया गया था.

समाज में अपनी इज्जत और मान-सम्मान बढ़ाने के लिए किया नाम का इस्तेमाल

पुलिस अधिकारी ने बताया कि अभी पुलिस को जानकारी मिली है कि जिस प्रदीप कुमार को संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) एक्जाम में 343वीं रैंक हासिल हुई है, वह तमिलनाडु के कन्याकुमारी का रहने वाला है. जबकि खातोदड़ा का रहने वाला प्रदीप तो उसके नाम पर अपना नाम जोड़कर मीडिया और समाज में अपनी वाहवाही लूट रहा था. पुलिस अधिकारी ने कहा कि आरोपी प्रदीप कुमार यादव ने समाज में अपनी इज्जत और मान-सम्मान बढ़ाने के लिए तमिलनाडु के रहने वाले प्रदीप के नाम का इस्तेमाल किया, जोकि एक गैरकानूनी अपराध है.

पुलिस ने पीड़ित की शिकायत पर आरोपी के खिलाफ दर्ज किया केस

इस मामले में थानाध्यक्ष ने बताया कि जब फर्जी रैंक वाले प्रदीप कुमार यादव की खबर मीडिया के जरिए तमिलनाडु के रहने वाले प्रदीप और उनके परिवार वालोंऔर साथियों ने देखी तो उन सभी के होश उड़ गए. इस दौरान उन्होंने इस मामले की शिकायत महेंद्रगढ़ पुलिस को दी. ऐसे में पुलिस ने जांच-पड़ताल करके बीती रात खातोदड़ा के रहने वाले आरोपी प्रदीप यादव के खिलाफ IPC की धारा 419 और 420 के तहत केस दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया गया है. जानकारी के मुताबिक UPSC में 343वीं रैंक हासिल करने वाला असली प्रदीप कुमार कन्याकुमारी, तमिलनाडु का रहने वाला है.

error: Content is protected !!