वैक्सीन लगवाने के वार्ड बॉय की मौत, अधिकारी बोले- वैक्सीन वजह नहीं

उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद के एक सरकारी अस्पताल में रविवार की शाम को 46 साल के एक वार्ड बॉय की मौत हो गई, जिसे 24 घंटे पहले ही कोरोना वैक्सीन का टीका लगाया गया था। जिले के मुख्य चिकित्सा अधिकारी का कहना है कि उसकी मौत का कोविड वैक्सीन से कोई लेना-देना नहीं है।

वार्ड बॉय महिपाल सिंह की रविवार को सीने में दर्द और सांस लेने में तकलीफ होने के चलते मौत हो गई थी। उनके परिवारवालों का कहना है कि वैक्सीन लगवाने के बाद से ही परेशानी की शिकायत कर रहे थे।

मुरादाबाद के चीफ मेडिकल ऑफिसर गर्ग ने रविवार देर रात पत्रकारों से कहा कि ‘उन्हें शनिवार की दोपहर वैक्सीन लगाई गई थी। रविवार को उन्हें सांस लेने में तकलीफ और सीने में दर्द की शिकायत हुई। हम उनकी मौत के कारणों का पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं। पोस्टमार्टम कराया जाएगा। यह वैक्सीन का रिएक्शन नहीं लगता है। उन्होंने शनिवार की रात को अपनी नाइट ड्यूटी भी की थी और तब तक कोई दिक्कत नहीं थी।’

यूपी सरकार के मुताबिक, महिपाल सिंह के पोस्टमार्टम रिपोर्ट में सामने आया है कि उनकी मौत ‘cardio-pulmonary disease’ के चलते ‘cardiogenic shock/septicemic shock’ की वजह से हुआ है।

वार्ड बॉय के बेटे विशाल ने मीडिया से कहा कि उनके पिता को पहले से समस्या रही होगी, लेकिन वैक्सीन लगवाने के बाद से उनकी तबियत ज्यादा खराब हो गई। उन्होंने कहा, ‘मेरे पिता वैक्सीन सेंटर से दोपहर लगभग 1.30 बजे निकले। मैं उन्हें घर लेकर आया। उन्हें सांस लेने में दिक्कत हो रही थी और खांसी आ रही थी। उन्हें निमोनिया का असर, खांसी और जुकाम था लेकिन घर आने के बाद उनकी तबियत ज्यादा खराब हो गई।’

बता दें कि उत्तर प्रदेश सरकार ने एक प्रेस रिलीज जारी कर बताया था कि वैक्सीनेशन के पहले दिन यानी शनिवार को राज्य में कुल 22,643 लोगों को कोविड का टीका लगाया गया है। राज्य में वैक्सीनेशन का अगला चरण 22 जनवरी को पूरा किया जाना है।

Please Share this news:
error: Content is protected !!