घने कोहरे के चलते जम्मू हवाईअड्डे से 17 उड़ानें रद्द

वैष्णो देवी मंदिर के आसपास के इलाकों समेत जम्मू के ऊंचाई वाले इलाकों में इस मौसम की पहली बर्फबारी होने के एक दिन बाद क्षेत्र में घने कोहरे के कारण मंगलवार को जम्मू हवाईअड्डे से आने और जाने वाली 17 उड़ानों को रद्द कर दिया गया। अधिकारियों ने यह जानकारी दी।

जम्मू हवाईअड्डे के निदेशक पी आर बेउरिया ने मीडिया से कहा कि कोहरे के कारण “खराब दृश्यता” की वजह से मंगलवार को लगभग सभी उड़ानों का संचालन रद्द कर दिया गया। उन्होंने कहा कि पूरे दिन खराब दृश्यता का सामना करना पड़ा। निदेशक ने कहा कि सुबह नौ बजे हवाईअड्डे पर दृश्यता शून्य थी और अपराह्न एक बजे यह सुधर कर 500 मीटर हुई।

निदेशक ने कहा, “उड़ानों का संचालन फिर शुरू करने के लिये हम दृश्यता स्तर के सुधर कर जरूरी स्तर (1000 से 1200 मीटर) पर आने का इंतजार करते रहे।” अधिकारियों ने कहा कि घने कोहरे और सर्द मौसम के कारण जम्मू के मैदानी इलाकों में सामान्य जनजीवन प्रभावित हुआ है। उन्होंने कहा कि दोपहर तक अधिकतर इलाकों में कोहरा छंट गया था, जिससे लोगों को थोड़ी राहत मिली।

मौसम विभाग के एक प्रवक्ता ने कहा कि जम्मू में न्यूनतम तापमान पिछली रात के मुकाबले दो डिग्री गिरकर 3.7 डिग्री सेल्सियस पर पहुंच गया, जो इस मौसम में यहां के सामान्य तापमान से 3.7 डिग्री सेल्सियस कम है। जम्मू क्षेत्र के ऊंचाई वाले अधिकतर इलाकों में शनिवार और रविवार की दरमियानी रात को मध्यम से भारी बर्फबारी के बाद दिन और रात का तापमान मौसम के औसत तापमान से नीचे पहुंच गया।

रियासी स्थिति वैष्णो देवी मंदिर के इलाके में इस मौसम का पहला हिमपात हुआ जबकि उधमपुर में पहाड़ी पर्यटन स्थल पटनीटॉप, और डोडा,किश्तवाड़, राजौरी, पुंछ, कठुआ, रियासी और रामबन के ऊपरी इलाकों में भी बर्फबारी हुई। जम्मू कश्मीर राष्ट्रीय राजमार्ग यातायात के लिए खुला है जबकि जम्मू क्षेत्र के दो जिलों राजौरी व पुंछ को दक्षिण कश्मीर के शोपियां जिले से जोड़ने वाली मुगल रोड को पीर की गली और आसपास के इलाकों में भारी बर्फबारी के बाद बंद कर दिया गया था।

Please Share this news:
error: Content is protected !!